शयन पाद संचालन से दुर करे मोटापा जनित रोग( shayan pad sanchalan yoga in hindi)

शयन पाद संचालन से दुर करे मोटापा जनित रोग( shayan pad sanchalan yoga in hindi): हमारे शरीर में हमारे पाचन-तंत्र की उपयोगिता आज किसी से छिपी नहीं है | एक और जहाँ शरीर में अपचन स्थिति केफलस्वरूप ढेर सारे विकार उत्पन्न होते हैं तो वहीँ दूसरी और पाचन तंत्र सही होने के बावजूद भी कभी-कभी तोंद बाहर निकल आती है | इन दोनों ही परिस्थितियों में शारीरिक एवं मानसिक क्षति होती है |

न जाने कितनो की यही सोच होगी कि एक बार फिर से मेरा शरीर स्वस्थ एवं सुडोल बने, परन्तु सवाल है कैसे…? ऐसे में शयन पाद संचालन करने से आपको मोटापा एवं मोटापा जनित रोगों से काफी आराम मिलता है | लेटे-लेटे पैरों से साइकिल चलाने कि विधि को ही शयन पाद संचालन के नाम से जाना जाता है | यूँ तो शयन पाद संचालन को करने के कई तरीके हैं | परन्तु हम आपको सबसे आसान विधि के माध्यम से इसकी उपयोगिता को समझायेंगे | पेश है एक रिपोर्ट…

शयन पाद संचालन कैसे करें

(1) सबसे पहले पीठ के बल जमीन पर लेट जाये | अब अपने हाथो को जांघो के पास सटाए एवं दोनों पैरों को एक दुसरे से मिलाकर रखें |

(2) अब धीरे से हाथ एवं पैरों को एक साथ उठाकर साइकिल चलाने जैसा अभ्यास करें | ध्यान दें अभ्यास के दौरान पैर आपस में न टच हो |

(3) इसी आसन को कुछ देर तक करते रहें | थक जाने पर शवासन की मुद्रा में आ थोड़ी देर के लिए विश्राम करलें | कुछ देर बाद पुनः साइकिल चलाने जैसा व्यायाम करें |

शयन पाद संचालन के फायदे

(1) ये आसन पेट एवं पैर की मांसपेशियों के लिए अत्यंत लाभदायक होता है | इससे पेट की मांसपेशियों में खिचाव आता है साथ ही पेट, पैर एवं हाथ के रक्त संचार में भी वृधि होती है |

(2) इस आसन से पाचन तंत्र तंदुरुस्त होता है एवं कब्ज़, एसिडिटी तथा अपचन जैसी समस्याओं से तुरंत लाभ मिलता है |

(3) मधुमेह के रोगों में भी इस आसन से काफी फायदा पहुँचता है | इस आसन के नियमित उपयोग से तोंद कम होती है जिससे कि मोटापा जनित रोगों के रोकथाम में सहायता मिलती है |

योग से जुड़े ऐसे ही अन्य योगासन के लिए हमारे योग सीरीज वाले पेज पर बने रहे.

Tredinghour

THNN (Trendinghour News Network).