कब्ज रोग से बचाएगा मलासन का प्रयोग(Malasana yoga in hindi)

कब्ज रोग से बचाएगा मलासन का प्रयोग(Malasana Yoga in hindi): खान-पान में अनियमितता पेट के कई विकारों को जन्म देती है | ऐसे विकारो में कब्ज़, एसिडिटी, अपचन इत्यादि प्रमुख है | खासकर के उम्र बढ़ने के साथ-साथ हमारे पाचन-तंत्र उतने सक्रिय नहीं रह पाते और ऐसे में ये समस्या और भी बढ़ जाती है |

डॉक्टर से परामर्श कर हम इसका निदान तो पा लेते हैं परन्तु भविष्य में फिर ऐसा न हो इसकी गारंटी कोई नहीं लेता | ऐसे में मलासन का उपयोग आपके पेट के विकारों को दुर कर आपको एक नयी स्फूर्ति देगा | मलासन अथार्थ मल त्याग करते वक़्त अपनाये गए आसन को ही Malasana Yoga कहते हैं | ध्यान दें मलासन की अवस्था में बैठने की इस स्थिति से पेट एवं कमर को काफी फायदा पहुचता है | पेश है एक रिपोर्ट…

Malasana Yoga कैसे करें:

(1) सबसे पहले दोनों घुटनों को मोड़ते हुए मल त्याग करने वाली अवस्था में बैठ जाएँ |

(2) अब दाये हाथ की कांख को दाये ओर तथा बाये हाथ की कांख को बाये घुटनों में टिकाते हुए नमस्कार मुद्रा में आ जाएँ |

(3) धीरे-धीरे सांस ले एवं छोड़े इसी अवस्था में कुछ देर तक बैठे रहें  वक़्त के साथ- साथ अपने अभ्यास काल को बढ़ाये |

Malasana Yoga के फायदे:

(1) कब्ज़, गैस, एसिडिटी जैसी समस्याओं में ये आसन काफी राहत पहुँचाता है |

इसे भी पढ़े: अगले 20 सालो तक भाजपा ही रहेगी केंद्र में

(2) पेट के अन्य विकारों को दूर कर ये अब्डोमिनल नसों को मजबूती प्रदान करता है | जिससे कि पेट में तनाव उत्पन्न होता है एवं पेट का दर्द भी काफी हद तक कम हो जाता है |

(3) मलासन का नियमित उपयोग घुटनों, कमर, पित्त एवं मेरुदंड के दर्द से छुटकारा दिला मांसपेशियों को लचीला बनाता है |

योग से जुड़े ऐसे ही अन्य योगासन के लिए हमारे योग सीरीज वाले पेज पर बने रहे.

Tredinghour

THNN (Trendinghour News Network).

Leave a Reply