बुढ़ापे को टालना है तो करें चक्रासन योग(Chakrasan yoga in hindi)

बुढ़ापे को टालना है तो करें चक्रासन योग(Chakrasan yoga in hindi): बचपन में हम जवानी को तरसते हैं | जवान होने पर कर्म एवं क्रियाओं में इतना मशगुल हो जाते है कि देखते-देखते बुढ़ापा आ जाता है | और फिर एक दौर आता है जब हम बूढ़े होने के बाद दोबारा बच्चा बनना चाहते हैं | अमूमन हम सब की यही इच्छा रहती है कि हम कभी बूढ़े न हो | परन्तु कालचक्र को धता बताना हमारे बस में कहाँ.. मगर हाँ..थोड़ा ध्यान दें तो हम अपना बुढ़ापा एवं बुढ़ापे के लक्षण को काफी हद तक टाल जरुर सकते हैं..

जीवन में व्यायाम एवं एक बेहतर आहार शैली को अपना ऐसा करना काफी आसान हो जाता है | चक्रासन आसन का नियमित उपयोग इसमें हमारी काफी मदद पहुँचा सकता है | इस आसन को करते वक़्त हमारे शरीर की आकृति चक्र ( Wheel) के समान हो जाती है | इसलिए इस आसन को चक्रासन कहा जाता है..

चक्रासन योग कैसे करें..

(1) इस आसन को करने से पहले शवासन मुद्रा में लेट जाये | फिर घुटनों को मोड़कर, तलवों को जमीन पर अच्छी तरह से टिकाते हुए एडियों को नितम्ब पर लगाये |

(2) अब कोहनियों को मोड़ते हुए हाथों की हथेलियों को कंधो के पीछे थोड़ा डिस्टेंस पर रखें |

(3) अब इसी अवस्था में रहते हुए श्वास को अन्दर भरते हुए तलवों और हथेलियों के बल पर कमर-पेट और काटी को ऊपर उठाने की कोशिश करें |

(4) अब धीरे-धीरे हाथ और पैरों के पंजो को सामने लाकर एक चक्र बनाने की कोशिश करें | कुछ देर तक इसी अवस्था में बने रहें | फिर धीरे-धीरे श्वास छोड़ते हुए वापस शवासन की मुद्रा में आ जाये |

चक्रासन योग  के फायदे..

(1) इस आसन के नियमित अभ्यास से रीढ़ की हड्डियाँ लचीली बनती हैं | जिससे कि शरीर में फ्लेक्सिबिल्टी आती है |

(2) इस आसन से शरीर में स्फूर्ति एवं नयी उर्जा का संचार होता है जिससे कि बुढ़ापे को दूर रखने में काफी मदद मिलती है |

(3) धीरे-धीरे श्वास लेने एवं छोड़ने के फलस्वरूप इस आसन से हार्ट की पम्पिंग एबिलिटी पर जबरदस्त सुधार आता है |

(4) चक्रासन एक साथ कमर, हाथ, पैर, रीढ़, पीठ एवं पेट की मांसपेशियों में खिचाव ला उनकी सरंचना को दुरुस्त करता है |

चक्रासन योग  के दौड़ान बरते ये  सावधानी..

  • अन्य आसनों कि तुलना में इस आसन को करने में आपको किसी प्रसिक्षित ट्रेनर की जरुरत जरुर पड़ सकती है | ध्यान दें शुरुवाती दिनों से ही इसे करने में जल्दीबाजी न दिखाए |
Summary
Review Date
Reviewed Item
चक्रासन योग
Author Rating
51star1star1star1star1star