आंजनेय योग से आएगी आपके मांसपेशियों में खिंचाव

Anjaneya yoga in hindi

21 जून को पूरे विश्व ने जब योग दिवस मनाने की सोची तो निश्चित रूप से योग में कुछ तो बात होगी | लोगों को एक बेहतर जीवन शैली हेतु प्रोत्साहित करती हमारी योग सीरीज में आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे योग के बारे में जो करने में तो काफी सरल है परन्तु इसके फायदों के बारे में अब क्या कहने… संस्कृत में आंजनेय का अर्थ होता है अभिवादन करना जो कि सदियों से सम्मान अथवा अभिषेक के लिए प्रयोग किया जाता रहा है | इस योग के दौरान शरीर की संरचना भी स्तुति समान हो जाती है इसलिए इस आसन को आंजनेय आसन कहा जाता है | पेश है एक रिपोर्ट..


आंजनेय योग कैसे करें | Anjaneya yoga Kaise kare| How to do Anjaneya Yoga

(1) इस आसन को करने के लिए सबसे पहले बज्रासन की पोजीशन में बैठ जाये | फिर धीरे-धीरे घुटनों के बल खड़े होकर पीठ, गर्दन, सर, जांघ  एवं कूल्हों को एक सीध कर लें |

(2) अब हाथों को कमर से सटालें एवं सामने की ओर किसी वस्तु पर अपनी निगाह टिका दें | अब बाये पैर को आगे बढ़ाते हुए 90 डिग्री के कोण के समान जमीन पर रख दें |

इसे भी पढ़े: सनी लियॉन का योगा ‘सुपर हॉट सनी मॉर्निग्स’ हो रहा वायरल

(3) बाये हाथ को बाये जांघ के ऊपर रख अपने हाथों की हथेलियों को मिलाते हुए अपने ह्रदय के पास ले जाये |

(4) अब श्वास को अन्दर खींचते हुए जुड़ी हुयी हथेलियों को सर के ऊपर उठाकर हाथों को सीधा करते हुए सर को पीछे झुका दें | इसी स्तिथि में धीरे-धीरे दाहिना पैर पीछे की ओर सीधा करते हुए कमर से पीछे की ओर झुकें |

(5) कुछ देर तक इसी अवस्था में रहने के बाद श्वास छोड़ते हुए पुनः बज्रासन की मुद्रा में लौट आये | निरंतर अभ्यास कर योग अवधि को बढ़ाये |


आंजनेय योग के फायदे | Anjaneya Yoga Ke fayde| Benefits of Anjaneya Yoga

(1) इस आसन से छाती, हथेलियों, गर्दन एवं कमर की मांसपेशियों में खिचाव आता है | जिससे की दर्द एवं अकड़न की समस्या नहीं रहती |

(2) इस आसन के नियमित उपयोग से जीवन में संतुलन एवं मानसिक एकाग्रता का समावेश होता है |

इसे भी पढ़े: पीरियड्स में आई असामनता को दूर करेगा मुद्रासन योग

(3) इस आसन से घुटनों, पिंडलियों एवं कमर के जोड़ों पर खिचाव आता है जिससे कि वो लचीले बन पाते हैं |


आंजनेय योग करते वक़्त बरते ये सावधानी..

  • ध्यान दें आंजनेय आसन के ढेरों लाभ होने के बावजूद भी यदि आप पेट अथवा पैर के दर्द से पीड़ित हो तो किसी योग ट्रेनर की उपस्थिति में ही इस आसन को करें |

योग से जुड़े ऐसे ही अन्य योगासन के लिए हमारे योग सीरीज वाले पेज पर बने रहे.

Summary
Review Date
Reviewed Item
आंजनेय योग
Author Rating
51star1star1star1star1star