धैर्य और एकाग्रता बढ़ाएगा भद्रासन योग का प्रयोग

Bhadrasana Yoga in Hindi: हम युवा पीढ़ी के पास अदम्य साहस, टैलेंट एवं तकनीक होने के बावजूद भी हम में से ज्यादातर लोग कामयाब नहीं हो पाते | क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर हम में वो क्या कमी होती है जो हमे भीड़ से अलग ला खड़ा करने में सबसे बड़ी बाधा बनती है…? जी हाँ..वो चीज है हमारी धैर्य एवं एकाग्रता..

अमूमन हम काफी शोर्ट टेम्पर्ड होते हैं एवं थोड़े से प्रयास के बाद यदि सफलता हाथ न लगे तो हम काफी परेशान हो जाते हैं | ऐसे में हमे सफलता तो नहीं पर हाँ डिप्रेशन एवं चिंता जरुर हाथ लगती है.. ऐसे मामलो में भद्रासन का प्रयोग आपके अन्दर एकाग्रता लाता है | जिससे की आप काफी ज्यादा धैर्यवान हो पाते है| Bhadrasana Yoga का अर्थ होता है राज सिंहासन, जिसमे कि राज्याभिषेक होता है.. पेश है एक रिपोर्ट..

Bhadrasana Yoga कैसे करें:

(1) सबसे पहले किसी साफ़ स्वच्छ स्थान का चुनाव कर उसमे दरी बिछाकर दण्डासन की मुद्रा में बैठ जाये | अब दोनों घुटनों को मोड़कर दोनों पैरों कि उँगलियों को आपस में मिलाकर एडियों को लिंग के नीचे अथवा गुदाद्वार के नीचे स्पर्श करा दें |

(2) फिर दोनों हाथों के पंजो को मिलाकर पैर के पंजो को पकड़ कर सर को जमीन पर टिका दें |

(3) कुछ देर के लिए ध्यान केन्द्रित करने के लिए नाक के अगले भाग पर अपनी नजर टिकाये |

इसे भी पढ़े:  इन 6 Fengshui items को घर में रखने से होती है बरकत 

(4) इस आसन से भी आप भद्रासन कर सकते है | योग के जानकार इस आसन को गोरक्षासन भी कहते हैं |

Bhadrasana Yoga के फायदे:

(1) इस आसन से मन में एकाग्रता की वृधि होती है साथ ही मन को शांत कर ये हमें धैर्यवान बनाता है |

(2) इस आसन से पीठ, कमर एवं रीढ़ की हड्डियों में जोर पड़ता है जिससे कि उनमे फ्लेक्सिबिलिटी आती है |

(3) इस आसन का नियमित उपयोग स्नायुं तंत्र को मजबूत बनाता है साथ ही रक्त संचार भी दुरुस्त होता है |

Bhadrasana Yoga के दौरान बरते ये सावधानी:
  • किसी भी प्रकार के दर्द अथवा पैर के दर्द में इस आसन को करने से परहेज करें | धयान दें ऐसी अवथा में किसी योग प्रशिक्षक से सलाह लेना न भूलें |

 

Summary
Review Date
Reviewed Item
भद्रासन योग
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply