हाई टेक चीटिंग से निपटने के लिए स्कूल ने अपनाया ये अनूठा तरीका

भाई बात जब चीटिंग की हो तो हम भारतीय किसी से कम कहा| सही ढंग से एग्जाम की  तैयारी न हो पाने के वजह से फ़ैल हो जाने का डर तो बचपन से ही लगा रहा मगर हाँ, एक बात की तस्सली तो हमेसा रहती थी कि सामने वाला दोस्त जरुर पास करा देगा| ऐसे में पास होने के लिए हमारे पास एक ही ब्रह्मास्त बचता था चीटिंग का|पिछले साल बिहार में दसवी एवं बारहवीं के परीक्षा के वक़्त अभिभावकों द्वारा चीटिंग पंहुचाने के मामले ने पुरे विश्व में बिहार एवं भारत की किरकिरी करवा दी थी| मगर जरा ठरिये क्या केवल भारत ही हैं जहा बच्चे पास होने एवं भविष्य मे अच्छा करने के लिए चीट का सहारा लेते हैं अगर आप ऐसा सोचते हैं तो  चलिए आपको अपने पडोसी देश चीन लिए चलते हैं|cheating in china के ऊपर बनी यह लेख आपको तो एक बार हंसने पर बाद में यह सोचने पर मजबूर कर देगा कि क्या हमारी शिक्षा की बागडोर सही हाथों में हैं|

मामला चीन के Anhui province के   Chuzhou शहर के एक मिडिल स्कूल का हैं| चाइना में हर साल बच्चे अपने उज्ज्वोल भविष्य के लिए ढेरों एग्जाम की तैयारियां करते हैं जिनमे gaokao एक प्रमुख एग्जाम है जो वहाँ के बच्चों के करियर के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण समझा जाता हैं| एग्जाम के महत्व को समझते हुए बच्चे आनन्-फानन में तैयारियां तो कर लेते हैं मगर एग्जाम बिगड़ जाने का डर उनको हमेसा सताते रहता हैं| ऐसे में भविष्य बिगड़ जाने के चिंता में बच्चे चीटिंग के नए-नए तरीके इजात करते रहते हैं| इससे पहले की कुछ और कहा जाये जरा एक नजर इस तस्वीर पर डालिए|

cheating in china
cheating in china

सूत्रों की माने तो तकनिकी रूप से विकसित चीन में बच्चे चीटिंग करने के लिए उन्नत किस्म के टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने से भी नहीं चुकते| ऐसे में अधिकारी इन शरारती बच्चों पर नकेल कसने हेतु नियंत्रण के ढेरों विकल्प तलाशते रहते हैं| कभी तो वे बच्चों को क्लास रूम के बाहर बैठा कर ड्रोन के निगरानी में एग्जाम लेते हैं तो कभी Binoculars एवं CCTV के जरिये उनपर सख्त निगरानी रखी जाती हैं| मगर इस बार तो स्कूल प्रशासन ने ऐसा तरीका ढूंड निकाला कि बच्चों को कही बाहर निकालने की भी जरुरत नहीं पड़ी| दूसरों के Answer sheet में झाँकने अथवा चीटिंग करने के लिए इस बार न्यूज़-पेपर का सहारा लिया गया|

इसे भी पढ़े: 5 बाते जो बनाती है बिहारियों को सबसे अलग

बच्चो के सर पर न्यूज़-पेपर लगा कर उनके Area of Vision को केवल अपने  Answer Sheet तक ही सिमित कर देने वाले इस अनूठे एक्सपेरिमेंट की चर्चा देश दुनिया में होने लगी| खैर तरीके कुछ भी अपना लिए जाये, एक तबका ऐसा जरुर सामने निकल कर आ जाता है जो किसी भी नियंत्रण से पड़े चीटिंग करके ही दम लेती है| ऐसे में स्कूल प्रशासन को बच्चे के उज्जवल भविष्य को सुनिश्चित करने के लिए उनके पढाई पर विशेष ध्यान देने का आग्रह किया जाता हैं|

स्रोत: Sanghaist