क्या क्या होता है गर्भवास्था के दौरान

पूरे संसार में माँ और बच्चे का सबसे अनोखा ऱिश्ता माना जाता है और ये बात इस बात से भी सिद्ध होती है कि गर्भावास्था के दौरान महिलाओं में हैरान कर देने वाले बदलाव होते हैं। जी हाँ…आप शायद नहीं जानते होंगे की बहुत सारे बदलाव आते है इस दौरान…आइये जानते हैं..

1. बढ़ा हुआ खून का दौरा – अगर बात करें अन्य बदलावों की तो गर्भवास्था के दौरान खून का दौरा काफी बढ़ जाता है और इसकी वजह से नाक से खून निकलना या फिर मसूड़ों से खून निकलना आम बात हो जाती है।

2. गर्भावस्था के बाद आपका शरीर बढ़ता है – यूं तो शरीर के सभी अंग जन्म के बाद ही विकसित हो जाते हैं लेकिन प्लेसेंटा शरीर का वह भाग है जो गर्भावस्था के बाद उत्पन्न होता है।

3. क्यों होता है बाल और नाखूनों में बदलाव – गर्भवास्था के दौरान निकलने वाले हार्मौन के कारण बाल और नाखूनों में भी काफी बदलाव आता है। गर्भवती महिला गर्भावास्था के दौरान जो भी खाती है उसे बच्चा भी टेस्ट करता है।

4. पैरों का आकार बदलना – ये तो सबको ही पता है गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के पैर के साइज में काफी बदलाव आ जाता है लेकिन सोचने वाली बात ये है कि कुछ महिलाओं के पैरो का आकार दुबारा कम नहीं हो पाता है।

5. बच्चे गर्भ के अंदर शांत नहीं रहते – जी हाँ अगर आप ये सोच रहे हैं कि जन्म से पहले बच्चे रोते नहीं हैं तो आप गलत हैं क्योंकि ये गर्भ में भी रोते हैं। और यही नहीं ये हाथ हिलाते हैं, अंगूठा चूसते हैं। बच्चे का फिगरप्रिंट तैयार होने में करीब 9 से 12 हफ्ते का टाइम लगता है।

इसे भी पढ़ें : संतानहीनता से बचने के लिए अपने जीवन शैली में लाये बदलाव

6. त्वचा का रंग बदलना – गर्भावास्था के दौरान महिलाओं की त्वचा का रंग काफी बदल जाता है मतलब कुछ महिलाऔं की रंगत सफेद हो जाती है तो वहीं कुछ महिलाओं की त्वचा का रंग गहरा हो जाता है। ये हार्मोन के बदलाव के कारण होता है।

7. ह्ड्डी टूटने का खतरा – गर्भवती महिलाओं की हड्डी काफी नरम हो जाती हैं गर्भवास्था के दौरान। ये ह्ड्डी इसलिए नरम होती हैं ताकि माँ को बच्चे को जन्म देने में आसानी हो। विशेषरुप से कूल्हे की हड़डी और जोड ज्यादा नरम हो जाते हैं। और इसीलिए कम चलने फिरने की हिदायत दी जाती है।

8. यूट्रेस का आकार कितना बड़ा होता है – इसके साथ ही गर्भवती महिला के शरीर में एक बड़ा बदलाव ये आता है कि यूट्रेस का आकार पीच से बढ़कर एक मध्यम आकार के तरबूज जितना बड़ा हो जाता है। और इसमें कोई दोराय नहीं है कि इस बात ने आपको हैरानी में डाल दिया होगा।

इसे भी पढ़ें : गर्ववती महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण सावधानियाँ

 

किसी ने सही कहा है माँ और बच्चे का रिश्ता इस दुनिया में अनोखा है क्योंकि माँ निस्वार्थ प्रेम करती है और यही वजह है कि वो एक नन्हीं सी जान को दुनिया में लाने के लिए इतने दर्द और तकलीफ सहती है। इस बात पर सब लोगों को अपनी माँ को थैंक्यू कहना तो बनता है…आखिर उससे ज्यादा करीब आपके और कोई नहीं हो सकता है |

 

 

Nandini Singh

नंदिनी सिंह ट्रेंडिंगऑवर में एडिटोरियल प्रड्यूसर हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Have Entered Wrong Credentials