पर्यावरण के लिए अमृता देवी का बलिदान

रेगिस्तान में चारो ओर चमकती रेत और बिच में हरे-हरे खेजरी के पेड़, गाँव की सुन्दरता को चार चाँद लगा रहे थे | इन्ही खेजरी पेड़ो के कारण यह गाँव खेज्राली के नाम से जाना जाता था | खेज्राली गाँव के सभी लोग पर्यावरण से बहुत प्यार करते थे | वे गाँव के जानवरों और पेड़- पौधों का इस तरह ध्यान रखते थे, जैसे कोई अपने बच्चो का रखता है | वे प्रक्रति के पुजारी थे|

बिश्नोई जाती की स्थापना गुरुजम्बेश्वरी जी ने की थी | उन्होंने बिश्नोई के 26 सिद्धांतो का पालन करने को कहा था | उन्होंने बिश्नोइयो को शिक्षा दी की जानवरों और पेड़ो की रक्षा करो | उन्ही की शिक्षा का प्रभाव था की बिश्नोई अपने पेड़ो और जानवरों की जी-जान से रक्षा करते थे|

सन 1760 की बात है, उन दिनों जोधपुर के महाराजा अभय सिंह का नया महल बना रहा था | महल के लिए बहुत-सी इमारती लकड़ी की आवशकता थी | रेगिस्तान में लकड़ी की कमी थी | राजा के मंत्रियो में विचार विमर्श करके कहा, “ हमें खेजराली गाँव से लकड़ी लेनी चाहिए, वहा खेजरी के बहुत से पेड़ है | राजा के मंत्रियो ने उन्हें काटकर ले आए, तो राजा का महल जल्दी ही बन जायेगा |”

एक दोपहर को , जब खेजरालीगाँव के सब लोग घरो में आराम कर रहे थे, राजा के सिपाहियों ने आकर पेड़ो को काटना शुरू कर दिया | अमृता देवी और उनकी तीन बेटीयाँ, जो उस समय घर पर ही थी, कुल्हाडियो का शोर सुनकर दौड़ती हुए आई घर से बहार आ गई | जब उन्होंने सिपाहियों को पेड़ काटते देखा, तो उनके चहरे पीले पड़ गए | अमृता देवी दौड़कर सिपाहियों के सामने आ गई और नम्रतापूर्वक उनसे कहने लगी, “ ये वृछ हमारे पूजनीय है |  हम इनकी पूजा करते है | कृपया इन्ह मत काटिए|” परन्तु सिपाही उनकी बात कहा मानाने वाले थे | वे लोग आगे बढ़ते हुए बोले, “ हट जाओ हमारे सामने से | हम ये पेड़ काटने आए है और काटकर ही ले जायेंगे | हमें राजा के महल के लिए लकड़ी चाहिये |”

अमृता देवी दुखी होकर बोली,” क्या राजा का महल और उसकी सजावट लोगो के जीवन से अधिक महत्वपूर्ण है? ये पेड़ हमारे जीवन है, इसीलिए हम इनकी पूजते है |” महाराज के सिपाही गरजते हुए बोले, “ हमें राजा का आदेस है और हम उसका पालन अवश्य करेंगे | “ यह कहकर उन्होंने पेड़ काटने लिए अपनी कुल्हाड़िया ऊपर उठा ली |

अमृता देवी ने उनसे भी अधिक गरजकर कहा, “ रुको ! अगर आप को राजा के आदेश का पालन करना है, तो हम भी अपने गुरु जम्बेशवर जी के सिद्धांत को तोड़ नहीं सकते | उन्होंने जानवरों की हत्या और पेड़ो को कटाने पर प्रतिबन्ध लगाया है | हम बिश्नोई है और हमारा कर्त्तव्य इन पेड़ो की रक्षा करना है | इसके लिए अगर हमें अपनी जान भी देना पड़े, तो हम भी पीछे नहीं हटेंगे |

लेकिन राजा के सिपाहियों के कानो पर जू तक नहीं रेंगी | उन्होंने अपने कदम आगे बढ़ाने शुरू किए| अमृता देवी और उनकी पुत्रिया पेड़ो के आगे कड़ी हो गई, जैसे माताए अपने बच्चो की रक्षा के लिए आगे आ गई हो | सिपाहियों के सर पर तो जैसे क्रूरता सवार थी | पेड़ो के साथ उन्होंने अमृता देवी और उनकी पुत्रियों को भी काट दिया | लगभग 363 बिश्नोइयो की जाने चली गई, परन्तु राजा के सिपाही पीछे नहीं हटे |

खेजराली और आस-पास के सभी गांवों में हाहाकार मच गया | जब राजा अभय सिंह को बिश्नोइयो के इस बलिदान का पता चला, तो उसे बहुत दुःख हुआ | उसने आदेश दिया कि कोई भी पेड़ न काटा जाए | यही नहीं राजा ने स्वयं जाकर सिपाहियों की निर्दयता के लिए, बिश्नोइयो से क्षमा मांगी | उन्हें अस्वासन दिया कि अब कभी भी कोई इतना भयानक अपराध नहीं करेगा | महाराज अभय सिंह ने आदेश निकला, जिसके आधार पर अब जानवरों की हत्या और वृछ के काटने पर प्रतिबंध लगा दिया गया | यह आदेश राजा के परिवार पर भी लागु होता था | उस आदेश के अनुसार जो कोई भी इश कानून का उलंघन करेगा, उसे सजा दी जाएगी और जुर्माना भी होगा |

अमृता देवी और उनकी पुत्रियों का बलिदान बेकार नहीं गया | उन्होंने पुरे समाज और देश के सामने एक उदहारण रखा कि महिलाये में भी बहुत शक्ति है | वे चाहे तो कुछ भी कर सकती है | यह उन्ही की शक्ति थी, जिसके सामने महाराजा अभय सिंह को झुकना पड़ा | बिश्नोइयो के लिए यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि थी |

बिश्नोयो का पेड़ो के प्रति प्रेम, आज भी उनके रीती-रिवाजो में स्पस्ट दीखता है |

वे मृतकों को जलाते नहीं है, बल्कि धरती के अन्दर दफनाते है | यह सब केवल इसलिए की दाह-संस्कार के लिए लकड़ी का प्रयोग न करना पड़े और पेड़ो को भी काटना न पड़े | बिश्नोई लकडहारे भी लकड़ी का सामन बनाने के लिए पेड़ नहीं काटते | जब पेड़ तूफानी हवाओ से गिर जाते है, या सुख जाते है, तभी उस लकड़ी का उपयोग करते है |

 

Summary
Article Name
Amrita Devi ka Balidaan
Description
रेगिस्तान में चारो ओर चमकती रेत और बिच में हरे-हरे खेजरी के पेड़, गाँव की सुन्दरता को चार चाँद लगा रहे थे | इन्ही खेजरी पेड़ो के कारण यह गाँव खेज्राली के नाम से जाना जाता था | खेज्राली गाँव के सभी लोग पर्यावरण से बहुत प्यार करते थे |
Author
Publisher Name
TrendingHour.com

Leave a Reply