रवीश कुमार का आलोचकों पर पलटवार कहा “मैं 100% प्योर भारत माँ की औलाद हूँ” |

अपने सोशल अकाउंट पर विरोधियों के आरोपों को झेल रहे NDTV के एंकर रवीश कुमार ने अपने ऑफिसियल ब्लॉग “नई सड़क” के जरिए अपनी बात रक्खी | ज्ञात हो कि पठानकोट हमले के बाद कुछ संगठनो ने रवीश पर आरोप लगाया था की उन्होंने कहा की सो इन्कोंटर में मरे गये लोग वे आतंकवाद नहीं थे |

रवीश ने अपने ब्लॉग में लिखा “मैं भारत माता की संतान हूं। अगर मेरी मां भारत माता नहीं है तो फिर कोई भारत माता नहीं है। फिर कोई मां पूजे जाने के लायक नहीं है। मैंने हमेशा भारत माता को अपनी माता समझा है और अपनी मां में भारत माता देखी है। क्या हम सभी सौ फीसदी माँ भारती की औलाद नहीं हैं ? सवाल मेरी मां का भी नहीं है। सवाल उन तमाम मांओं का है जिनके आगे बड़े बड़े नेता देवी कह कह कर गिड़गिड़ाते हैं और बाद में अपने वैचारिक समर्थकों से उन्हीं देवियो को किसी न किसी बहाने गाली पड़वाते हैं। गाली देने वाले की प्रोफाइल गलत हो सकती है मगर नकली नाम के पीछे किसी असली आदमी ने ही तो लिखा होगा। उसकी कुछ सोच होगी। वो किसी संगठन के लिए काम करता होगा। उसकी भलाई चाहता होगा। क्या उस संगठन में मांओं की यही इज़्ज़त है। अगर आप इस प्रवृत्ति को अब भी नहीं समझे और सतर्क नहीं हुए तो बहुत देर हो जाएगी। आखिर कौन लोग हैं जो पिछले कुछ दिनों धड़ाधड़ गालियां दिये जा रहे हैं।”

रवीश के ट्विट्टर अकाउंट पर अभद्र भाषा का प्रयोग करते अरविन्द नाम का युवक
रवीश के ट्विट्टर अकाउंट पर अभद्र भाषा का प्रयोग करते अरविन्द नाम का युवक

आगे रवीश लिखते हैं –

दोस्त, रंडी और वेश्या गाली नहीं है। उनके चरणों की धूल से नवरात्री में दुर्गा मां की प्रतिमा जीवंत होती है। वो ज़िंदगी की उस क्रूर हकीकत की शिकार औरतें हैं, बेटियां हैं जिनके दर्द को एक पल के लिए भी समझ लोगे तो देवता बन जाओगे। शर्म आएगी कि तुम्हारे रहते औरतों को, जिन्हें हम अपने पाप पर पर्दा डालने के लिए हर बार देवियां कहते हैं, ऐसी गली से गुज़रना पड़ता है। मुझे बहुत शर्म आती है। इसलिए कभी किसी को रंडी मत कहना। वरना तुम जीवन में किसी औरत का सम्मान नहीं कर पाओगे। तुम्हारे संगठन में सत्ता की लालच में कोई औरत आ तो जाएगी लेकिन जब वो मेरा लेख पढ़ेगी तो घर जाकर बताने की स्थिति में नहीं रहेगी कि वो जिस संगठन के लिए काम करती है, उसके लोग औरतों के बारे में ऐसी ऐसी बातें करते हैं।

गाली देने वाले वैचारिक लोगों एक बात ध्यान से सुन लो। तुम जितनी संख्या में हो, उससे कहीं ज़्यादा मुझे चाहने वाले हैं। उनके प्यार की खुश्बू में तुम्हारी गालियों की शोर सुनाई नहीं देती मुझे। यहां इसलिए लिख रहा हूं कि बड़े होकर तुम्हारे बच्चों ने, बेटियों ने यह सब देख लिया तो उन्हें शर्म आएगी कि मेरे बाप चाचा ने किसी विचारधारा के प्रसार के लिए क्या क्या गालियां दी हैं। तुम उस विचारधारा को गर्त में पहुंचा दोगे। तो मैं तुम्हारी विचारधारा की रक्षा के लिए भी लिख रहा हूं। अब से सबको बताना कि रवीश कुमार भारत माता की औलाद है। 100 फीसदी भारत माता की औलाद है। मैं भारत माता की तरफ से तुम्हें माफ करता हूं। मुझे पता है कि तुम एक अच्छे इंसान हो। तुम्हें किसी ने बहका दिया है क्योंकि तुम्हारा इस्तमाल किसी पर ईंट फेंकने, किसी पर थूकने के लिए होना है। ये इसलिए होना है कि तुम्हारे ऐसा करने से कुछ लोग डर जायेंगे और वो, जिस तक तुम तमाम ज़िंदगी में नहीं पहुंच पाओगो, सत्ता के शिखर पर राज कर सके।

अरविंद, आपने पूछा है कि क्या मेरी मां चाचा के साथ सोई थी। क्या तुम ऐसे सवाल अपनी मां से कर लेते हो?  किस घर्मग्रंथ से तुमने ऐसे सवालों की प्रेरणा पाई है मेरे मित्र। मेरी मां देवी हो या न हो, वो मां है इसीलिए मेरी नज़र कभी उसके सामने उठ भी नहीं सकती। वैसे भी मेरी मां तो भारत माता है। दोस्त मैं माफी चाहता हूं। मैं अपनी भारत माता से ये सवाल नहीं कर सकता। वैसे तुम लोगों की हिन्दी भी बहुत ख़राब है ।

आप जिस विचारधारा के गुप्त गुंडे हैं, आप भारत माता का अपमान कर सकते हैं लेकिन मैं नहीं कर सकता क्योंकि इससे तो उन शहीदों का अपमान हो जाएगा जिन्होंने भारत माता के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी। गुप्त गुंडे इसलिए कहा कि आप ये ट्वीट न तो अपनी बहन को दिखा सकते हैं, न अपनी मां को या पत्नी को। ज़ाहिर है आप कभी सामने नहीं आएंगे। आप अपने पिता को भी नहीं दिखा सकते ।

रवीश के पुरे पोस्ट को यहाँ पढ़ें : http://naisadak.org/mai-100-pure-bharat-maa-ki-aulad-huun/

Tredinghour

THNN (Trendinghour News Network).

Leave a Reply