उत्तराखंड में भी लगा राष्ट्रपति शासन : क्रेडिट किसे ?

पिछले कुछ दिनों से चल रहे उत्तराखंड के रानजीति को थोड़ा विराम लगा है, प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लग चुके हैं. आपको पता ही होगा की कांग्रेस के कई विधायक बाग़ी हो गए थे| 28 मार्च को हरीश रावत साहब को गवर्नर के सामने बहुमत साबित करना था हालांकि उससे पहले ही गवर्नर केके पॉल ने रिपोर्ट दी और प्रेसिडेंट प्रणब मुखर्जी ने रविवार सुबह ही आर्टिकल 356 का हवाला देते हुए उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लागू करने का घोषणा कर दिया|

समझिए उतराखंड के समीकरण को :

  • टोटल विधानसभा सीटें : 70.
  • कांग्रेस : 36
  • बीजेपी : 28

कांग्रेस के 36 में 9 विधायक पार्टी छोड़ चुकें हैं तो टोटल बचे 27.  इसी कारण कांग्रेस की नैया डूबीं हुई है|

जरा कांग्रेस के उन महानुभावों से भी मिल लीजिये जो बागी हुए हैं :

  1. डॉ. हरक सिंह रावत
  2. पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा
  3. कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन
  4. शैला रावत
  5. प्रदीप बत्रा
  6. शैलेंद्र मोहन सिंघल
  7. अमृता रावत
  8. सुबोध उनियाल
  9. उमेश शर्मा

यहाँ आपको बताते चलें उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन शनिवार देर रात को हुई कैबिनेट मीटिंग के बाद लगाया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई इस मीटिंग में फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली भी शामिल थे|  मीटिंग के बाद रास्त्रपति प्रणब मुखर्जी को हालात के बारे में बताया गया, और गवर्नर को रिपोर्ट सौंपी.

 

हिंदी खबर से जुड़े अन्य अपडेट लगातार पानेे के लिए हमें फेसबुक ,गूगल प्लस और ट्विटर पर फॉलो करे|

Tredinghour

THNN (Trendinghour News Network).