जाने डॉ एपीजे अब्दुल कलाम से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

Important Things About APJ Abdul Kalam in Hindi : रामेश्वरम का नाम तो सुना ही होगा न आपने..? हाँ वही रामेस्वरम धाम, जहाँ लंका विजय करने के बाद भगवान राम ने महादेव की पूजा की थी | चार धामो में एक रामेश्वरम में भगवान् शिव के दर्शन हेतु साल भर लोगों का आना जाना लगा ही रहता है | यही वजह है कि हाल के दिनों में पर्यटन से आये लाभ की वजह से यहाँ के लोगों की आर्थिक सम्पदा में भी अच्छी-खासी बढ़ोतरी हुई है | वहीँ रामेश्वरम से कुछ दूर आपको मछुआरे एवं मलाह की एक टोली भी मिल जाएगी जिनमें ढ़ेरों मछुआरे आपको समुन्द्र से मछली पकड़ते दिख जाएंगे | वहाँ जाकर आपको एक बार तो ये जरुर लगेगा कि विकास के ढेरों सुख सुविधाए आज भी यहाँ तक की दूरी नहीं तय कर पाई है..

जरा सोचिये ऐसे माहौल में कभी दसकों पहले एक ऐसे ही  गरीब मल्लाह  के घर एक लड़के का जन्म होता है | पाँच भाई-बहनों के बीच दो वक़्त की रोजी-रोटी के लिए संघर्ष करता वो लड़का परिवार से आर्थिक बोझ हटाने के लिए बचपन में ढेरों परेशानियाँ झेलता है यहाँ तक की पापा की मदद हेतु वो तड़के सुबह पेपर तक बाटता है फिर भी पढ़ाई के प्रति अपनी दिलचस्पी को वो कहीं मरने नहीं देता | और फिर एक दिन उनकी किस्मत भी उनकी मेहनत एवं लगन के आगे घुटने टेक देती है | आगे चल वही बच्चा देश का सर्वोच्च नागरिक बन जाता है |

जी हाँ हम बात कर रहे हैं  “द पीपल प्रेसिडेंट” डॉ अब्दुल कलाम जी के बारे में | 27 जुलाई 2015 को IIM शिलोंग में लेक्चर देते वक़्त कार्डियक  अरेस्ट की वजह से 83 वर्ष की उम्र में कलाम साहब हम सब को छोड़ परलोक सिधार जाते हैं | उनको खोने का दर्द इतना बड़ा था की कई दिनों तक सारा देश राष्ट्रीय शोक में डूब जाता है | ऐसे में उनके पहले पुण्य-तिथि पर ट्रेंडिंग ऑवर के समस्त टीम की तरफ से उन्हें ढेर सारी श्रधांजलि.. प्रस्तुत आर्टिकल  के माध्यम से हम कलाम जी के जीवन से जुड़ी कुछ ऐसी ही बाते रखने जा रहे हैं जो उनके चरित्र की महानता का बखान करने में कोई कसर नहीं छोड़ती पेश है एक रिपोर्ट…

1. तड़के सुबह उठ जाया करते थे: मैथ के प्रति उनकी दीवानगी बचपन से ही रही थी | जब वो मात्र 8 साल के थे तब गणित पढ़ने के लिए वे जिस अध्यापक के पास जाते थे उनकी एक खास आदत थी कि वे बिना नहाकर आये बच्चों को नहीं पढ़ाते थे | ऐसे में पढ़ने हेतु वो रोज़ तड़के सुबह 4 बजे जग नहाते एवं पहुँच जाते थे अपने गुरु से शिक्षा अर्जित करने | बस यहीं से कलाम साहब ने सुबह जल्दी उठने की आदत डाली जिसका निर्वाह उन्होंने लाइफ टाइम तक किया |

2. उनके देश आगमन पर बनाया जाता है साइंस डे: कलाम साहब सिर्फ भारत में ही प्रसिद्ध नहीं थे वरण देश के बाहर भी उन्हें मिसाइल मेन के नाम से जाना जाता था | विज्ञान के प्रति उनकी दिलचस्पी एवं योगदान का ही नतीजा था कि 26 मई 2006 को जब वे स्विट्ज़रलैंड पहुँचे तो वहाँ की सरकार ने उनके सम्मान हेतु उस दिन को हर साल साइंस डे के रूप में मनाने का फैसला लिया |

3. रह गया इस बात का अफ़सोस: अपने जीते जी बेशुमार इज्ज़त एवं प्यार कमाने के बावजूद कलाम साहब सादगी की एक मिसाल थे | परन्तु उन्हें भी एक बात का अफ़सोस हमेशा ही रह गया कि अपने माता पिता को वे उनके जीवनकाल में 24 घंटे बिजली उपलब्ध नहीं करा सके |

4. थे रियल यूथ आइकॉन:कलाम साहब बच्चों के बीच बेहद प्रसिद्ध थे | मुझे आज भी वो दिन याद है जब दिल्ली में बच्चों के साथ खेलते उनके व्यक्तित्व की एक छोटी सी झलक पा मैं अपने आप को धरती का सबसे खुसनसीब इन्सान समझ बैठा था | युवाओं के बीच ये उनकी लोकप्रियता का ही आलम था कि उन्हें साल 2003 एवं साल 2006 में MTV यूथ आइकॉन के लिए नोमिनेट भी किया जा चूका है |

5. थे पीपल प्रेसिडेंट:देश के सर्वोच्च नागरिक होने के बावजूद भी उन्होंने कभी आम आदमी से खुद को दूर नहीं रखा | आम इन्सान से इतना जुड़ाव होने की वजह से ही उन्हें पीपल प्रेसिडेंट भी कहा जाता है | यहाँ बताते चलें कि डॉ. राधाकृष्णन एवं जाकिर हुसैन के बाद वे तीसरे ऐसे राष्ट्रपति थे जिन्होंने भारत-रत्न मिलने के बाद राष्ट्रपति पद की शपथ ली |

6. मिसाइल मेन ऑफ़ इंडिया:बहुत कम लोगों को पता होगा कि भारतीय नुक्लेअर एवं एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में कलाम ने कई सफल परिक्षण कर भारत को नुक्लेअर पॉवर देश बनाया था | उन्ही के प्रयास से SLV टेक्नोलॉजी का प्रयोग कर नए रेंज के बलास्टिक मिसाइल्स बनाए गए | उनके योगदान का ही नतीजा है कि भारत भी मित्र देशों के साथ कंधे से कंधे मिला अपने स्पेस प्रोग्राम के स्वर्णिम युग में दौड़ने में सक्षम हो पाया है |

तो ऐसे थे हमारे प्यारे कलाम..ट्रेंडिंगऑवर  के समस्त टीम की तरफ से प्यारे कलाम को उनके पुण्यतिथि पर शत-शत नमन.. जाते-जाते कलाम जी द्वारा कहे गए एक बेहद ही प्रेरणादायक प्रसंग छोड़े जा  रहे हैं हमें गर्व है कि मेरे देश में कलाम जैसी सख्सियत ने जन्म लिया है |

जय हिन्द

जय भारत..  

“ आकाश की तरफ देखिए हम अकेले नहीं हैं.. सारा ब्रह्माण्ड हमारे लिए अनुकूल है और जो सपने देखते हैं, मेहनत करते हैं उन्हें इश्वर फल हमेशा देता है

Things About APJ Abdul Kalam in Hindi

 

Tredinghour

THNN (Trendinghour News Network).

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Have Entered Wrong Credentials