अखिलेश यादव होंगे SP के राष्ट्रीय अध्यक्ष, शिवपाल और अमर सिंह बाहर

लखनऊ (ट्रेंडिंगऑवर संवाददाता) : पिछले कई दिनों से पार्टी के अंदर चल रहे घमासान में एक नया मोड़ तब आया जब लखनऊ में समाजवादी पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव द्वारा बुलाए गए विशेष अधिवेशन में मौजूद पार्टी नेताओं ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को सर्वसम्मति से पार्टी अध्यक्ष मान लिया | जबकि पार्टी के उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव को पद से बर्खास्त कर दिया गया है और पार्टी महासचिव अमर सिंह को भी पार्टी ने निकालने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास कर दिया है | यहाँ आपको हम बताते चले कि सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने इस मीटिंग के शुरू होने से पहले ही कहा दिया था कि यह मीटिंग गैरकानूनी है और जो भी इसमें शिरकत करेगा उन पर कार्रवाई की जाएगी |

समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव ने यहाँ आये हुए पार्टी के लोगों को संबोधित करते हुए  कहा कि “पूरा देश यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तारीफ कर रहा है| और इन्हें अपनी ही पार्टी के इनकी बातें नहीं मान रहे हैं|” रामगोपाल यादव ने कहा कि तब पार्टी कार्यकर्ताओं ने अपील की कि राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाया जाए | यही वजह है कि पार्टी का आपातकालीन राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाया गया है| आगे उन्होंने कहा कि दो लोगों ने पार्टी को खत्म करने की साजिश की है | उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन में पहला प्रस्ताव सर्वसम्मति से यूपी के मुख्यमंत्री को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने का है और उन्हें यह अधिकार देना है कि वह समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी को जरूरत के हिसाब से गठित करें |

रामगोपाल यादव ने कहा कि दूसरा प्रस्ताव मुलायम सिंह यादव समाजवादी पार्टी का सर्वोच्च नेता माना जाए तथा तीसरा प्रस्ताव यह है, शिवपाल यादव को उत्तर प्रदेश के पार्टी अध्यक्ष पद से तत्काल हटाया जाए और अमर सिंह को पार्टी से निकाल दिया जाए |

इस अवसर पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सभी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि जो प्रस्ताव लाए गए हैं वह उन लोगों के खिलाफ हैं जिन्होंने पार्टी के खिलाफ काम किया है| उन्होंने कहा कि अगर नेताजी के खिलाफ साजिश हो और पार्टी के खिलाफ साजिश हो तो बेटा होने के नाते मेरी जिम्मेवारी है कि ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो | अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी का जहां नुकसान होगा वहां कार्रवाई करना पड़ेगा |

मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्टी में ऐसे लोग हैं जो सरकार बनाना नहीं चाहते, लेकिन सरकार बनेगी तो नेताजी को सबसे ज्यादा खुशी होगी| उन्होंने कहा कि लोग चाहते हैं कि समाजवादी पार्टी सरकार में फिर से आये | उन्होंने कहा कि 3-4 महीने सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं | ऐसे में यह सब समाजवादी पार्टी को नुकसान पहुंचाएगा| उन्होंने पार्टी विधायकों और कार्यकर्ताओं का धन्यवाद दिया कि पार्टी का मनोबल अभी तक कम नहीं हुआ है |

अखिलेश यादव ने कहा कि नेता जी के बेटे के हैसियत से मुझे जो कुछ भी करना होगा, करूंगा| उन्होंने कहा कि राज्य में एक सेक्‍युलर सरकार बने, यही उम्मीद करता हूं | उन्होंने नए साल की सभी को बधाई दी|
ट्रेंडिंगऑवर के पाठकों को यहाँ बता दें कि यह पहले ही साफ था कि टिकट बंटवारे को लेकर दो दिनों तक चला सियासी ड्रामा अभी ख़त्म होता नहीं दिख रहा है | यह बैठक लखनऊ के जनेश्वर मिश्र पार्क में हुई |

इससे पहले शनिवार को अखिलेश से मिलने के बाद मुलायम ने उनकी बर्ख़ास्तगी वापस ली थी, साथ ही रामगोपाल का निष्कासन भी वापस लिया गया था | शिवपाल ने मीडिया में आकर कहा कि अब सब कुछ ठीक हो गया है, लेकिन आज गाज उन्हीं पर गिरी है |

आपको बताते चले कि शनिवार को पार्टी में घमासान के बीच मुलायम सिंह यादव के साथ अखिलेश यादव और आजम खान की बैठक के बाद अखिलेश और रामगोपाल यादव का निष्कासन वापस ले लिया गया | अब फिर से एक बार दोनों की पार्टी में वापसी हो गई है| माना जा रहा है कि मामले में आजम खान की महत्वपूर्ण भूमिका रही है |

इसी वजह से एक बार फिर सुलह की गुंजाइश बनी और सपा सुप्रीमो ने बैठक खत्‍म होने के तत्‍काल बाद अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव के निष्‍कासन को रद्द करते हुए उनकी पार्टी में वापसी का फैसला लिया |

इस बैठक में शिवपाल और अबू आजमी भी मौजूद थे. बैठक में आजम ने अखिलेश के साथ मिलकर अमर सिंह को निकालने की मांग भी की. आजम ने कहा कि अगर अमर सिंह को निकाला जाता है तो सब ठीक होगा

Tredinghour

THNN (Trendinghour News Network).

Leave a Reply