मूवी समीक्षा: शिवाय

Shivaay Movie Review in Hindi: मैं तो उसी दिन अजय देवगन का फेन बन गया था जब मैंने उनकी गंगाजल देखी थी| दीवाली का वक़्त एवं शिवाय के प्रोमोस दोनों ने ही शिवाय के लिए एक अच्छा प्लेटफार्म बेस तैयार किया था मगर कही न कही अजय इस GoldRush को भुनाने में सक्षम नहीं हो पाए| फिर भी यदि आप अजय के फेन हैं एवं मार-धार से भरी एक्शन थ्रिलर आपको रोमांचित करती हैं तो शिवाय आपके लिए एक बेहतर आप्शन हो सकती हैं| इससे पहले की हम आपको शिवाय के कहानी के बारे में ब्बताये आइये बात करते हैं Star Cast of Shivaay की|

स्टार कास्ट :अजय देवगन , अबीगेल एम्स, एरिका कार, सायेशा सैगल, गिरीश कर्नाड
डायरेक्शन: अजय देवगन
टाइप:एक्शन
फिल्म अवधी:2 घंटा 52 मिनट्स
 
फिल्म की कहानी: ‘शिवाय’ कहानी है एक ट्रेकर अजय देवगन (शिवाय) की जिसे लाइफ में बस दो ही चीजे आकर्षित करती हैं पहली विशाल पर्वत पर चढ़ाई एवं दूसरी शिव भक्ति| अपने 9 साल की छोटी सी बेटी गौरा (अबीगेल एम्स) को अपने माँ (एरिका कार) से मिलाने के लिए शिवाय अपनी बेटी संग  बुल्गारिया (एक यूरोपीय देश) पहुँच जाते हैं परन्तु पराए देश में शिवाय और उसकी बेटी  मानव तस्कर का शिकार हो जाते हैं| बस उसके बाद शिवाय की ज़िन्दगी का एक ही मकसद रह जाता हैं गौरा को ह्यूमन ट्रैफिक के चंगुल से निकाल अपनी माँ से मिलाना और मानव तस्करों को उसके किये की सजा देना| यदि आपको मार-धार काफी पसंद हैं तो नो डाउट शिवाय आपको बहुत कुछ दे सकती हैं|हालाँकि इस फ़िल्म को बनाते वक़्त ये अटकलें लगायी जा रही थी की यह मूवी भगवन शिव से प्रेरित होगी या फिर इसके किरदार ‘मेलूहा’ जैसी किसी पुस्तक पर आधारित होगी लेकिन उन सब से उलट शिवाय में शिवभक्ति को बिलकुल अलग ढंग से पेश किया गया हैं|

एक्टिंग की क्लास:

(1) लीड रोल में अजय ने काफी अच्छी एक्टिंग की हैं लेकिन एक साथ इतने सारे भूमिकाओं ( एक्टिंग, डिरेक्टिंग एवं स्क्रीनप्ले) को निभाने के वजह से कही न कही शिवाय दर्शकों को बोर करते नजर आती हैं|

(2) इस फिल्म से पहली बार पोलिश अभिनेत्री एरिका कार ने बॉलीवुड में एंट्री मरी हैं| हालाँकि इससे पहले उन्होंने BBC की सीरीज The Passing Bells से काफी सुर्खियाँ बटोरी थी परन्तु इस फिल्म में उनके करने के लिए कुछ खास नहीं था|

इसे भी पढ़े: बाघा बॉर्डर जाने की सोच रहे है तो इस लेख को पढना न भूले

(3) शिवाय के बेटी के रूप में अबीगेल एम्स ने सराहनीय एक्टिंग करने की कोशिश की हैं|फ़िल्म के दूसरे भाग में अजय और उनकी बेटी के बीच का दृश्य आपको भाव विभोर जरुर कर देगा|

(4) गिरीश कर्नाड के लिए इस फिल्म में बहुत कुछ तो नहीं था परन्तु बीबीसी के रिटायर्ड पत्रकार की भूमिका के साथ उन्होंने न्याय जरुर किया हैं|

फिल्म का संगीत:

“बोलो हर हर” का संगीत पहले ही काफी हिट हो चुकी है और यह कहना लाजमी ही होगा कि यह गाना ही USP of Shivaay भी थी| इसके अलावा Jasleen Royal के आवाज में Raatein आपको कर्णप्रिय जरुर लगेगी| तेरे नाल इश्क एवं दरखास्त जैसे गीत एक समय के बाद काफी बोरिंग लगने लगती हैं|

फिल्म का डायरेक्शन:

कहना लाजमी ही होगा कि फिल्म शिवाय अजय के बेहद महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट में से एक हैं|और यहीं वजह हैं की उन्होंने इस फिल्म के लिए सिंघम एवं गोलमाल सीरीज  से भी दुरी बना ली थी| डायरेक्टर के रूप में अजय इस फिल्म के साथ तो इन्साफ करते नजर आते हैं मगर साथी स्टाफ से एक्टिंग निकलवाने में उन्हें काफी मस्सकत करने की जरुरत थी, जहाँ वे थोडा कमजोर साबित हो गए| ओवरअल देखा जाये तो शिवाय के जरिये अजय ने अपने डायरेक्शन स्किल के साथ इंसाफ ही किया हैं|

इसे भी पढ़े: सीरियल नंबर वन : भाभी जी घर पर है

क्यूँ देखे:

(1) ‘शिवाय’ में भरपूर एक्शन हैं| खुली सड़कों, बांधो एवं पहाड़ के उंचाई पर शूट हए बेहतरीन स्टंट आपको रोमांच से भर देगी| यदि आपको एक्शन फिल्म काफी ज्यादा अच्छी लगती हैं तो शिवाय खास आपके लिए ही हैं|

(2) फिल्म में अजय तकनीकी रूप से काफी सक्षम दिखते हैं| इस फिल्म को शूट करने में अजय ने बेहतरीन सिनेमटोग्राफर एवं कैमरे का इस्तेमाल किया हैं जो की कही न कही आपको हॉलीवुड वाली फील देती हैं|

(3) इस फिल का संगीत Bolo Har Har रिलीज़ से पहले ही सुर्ख़ियों में हैं| अरिजीत सिंह के आवाज में गाया गीत दरखास्त भी कर्णप्रिय हैं|

क्यूँ न देखे:

(1) इस फिल्म में एक्टिंग, डिरेक्टिंग एवं स्क्रीनप्ले का रोल अकेले दम पर करते अजय कही न कही इस बोझ के सामने झुके से नजर आते हैं जो कही न कही आपको बोर जरुर कर देगी|

(2) अजय देवगन को छोड़ दें तो इस फ़िल्म में सभी कलाकारों ने बेहद कमजोर अभिनय किया है|फिल्म का संवाद एवं डायलाग डिलीवरी भी औसत दर्जे की हैं|

(3) फ़िल्म का एक और कमज़ोर पहलू है फ़िल्म का पहला भाग| फ़िल्म के पहले भाग की कहानी में अजय देवगन और एरिका कार के अलावा दिखाए गए तकरीबन सभी किरदार वहां क्यों थे, यह समझ से बाहर रह जाता है| ऐसा लगता है की उन्हें जबरदस्ती का ठूस दिया गया हैं|

Leave a Reply