‘मैं वो चाँद’ फ़िल्म ‘तेरा सुरूर’ से लिरिक्स एंड गाने

‘मैं वो चाँद’ फ़िल्म ‘तेरा सुरूर’ से लिरिक्स एंड गाने: मैं वो चाँद दर्शल रावल द्वारा गाए इस गाने को कंपोज़ किया है हिमेश रेशमियाँ ने जबकि संगीत लिखा है समीर अनजान ने |

गायक : दर्शल रावल
संगीत: हिमेश रेशमियाँ
बोल: समीर अनजान
रिलीज़ कम्पनी : टी सीरीज

 

अश्कों में है यादें तेरी
भींगी भींगी रातें मेरी
गुम है कहीं राहें मेरी

मैं तेरे इश्क में गुमराह हुआ
मैं तेरे इश्क में गुमराह हुआ
मैं वोह चाँद जिसका तेरे बिन न कोई आसमान
मैं वोह चाँद जिसका तेरे बिन न कोई आसमान

मेरी दुआओं में है मन्नत तेरी
तुझको पढ़ा है तू है आयत मेरी
जानत तू है होना न दूर
अजमत है तुझसे तू ही है मेरा नूर

दिल की सलाखें क़ैद रखे है
जैसे परिंदा कई, हाँ कई….

अस्कों में है यादें तेरी
भीगी भीगी रातें मेरी
गम है कहीं राहें मेरी

मैं तेरे इश्क में गुमराह हुआ
मैं तेरे इश्क में गुमराह हुआ
मैं वो चाँद जिसका तेरे बिन न कोई आसमान – 2

वीरानियों का दिल में लावा  जले
अंगारों के साए में हर पल खाले
फुरकत का लम्हा फिर से आये न अब
इस दिल से रिहाई दे दे ए मेरे रब्ब

दिल के तार बंधे हैं ऐसे
जैसे बंधी बेड़ियाँ , बेड़ियाँ ….

अश्कों में है यादें तेरी
भीगी भीगी रातें मेरी
गुम है कहीं राहें मेरी

मैं तेरे इश्क में गुमराह हुआ
मैं तेरे इश्क में गुमराह हुआ
मे वो चाँद जिसका तेरे बिन न कोई आसमान |

Leave a Reply