‘जनम जनम’ फ़िल्म ‘दिलवाले’ से लिरिक्स एंड गाने

‘जनम जनम’ फ़िल्म ‘दिलवाले’ से लिरिक्स एंड गाने : जनम जनम अमित मिश्रा, अनुष्का मनचंदा,अन्तर मित्रा  द्वारा गाए इस गाने को कंपोज़ किया है प्रीतम   ने जबकि सगीत लिखा है  अमिताभ भट्टचार्य    ने |

गायक : अरिजीत सिंह
संगीत:   प्रीतम 
बोल:   अमिताभ भट्टचार्य 
रिलीज़ कम्पनी : सोनी म्यूजिक एन्तेरैन्मेंट इंडिया

जनम जनम जनम साथ चलना यूँही
कसम तुम्हे कसम आके मिलना यहीं
एक जान है भले दो बदन हो जुदा
मेरी होक हमेशा ही रहना
कभी न कहना अलविदा

मेरी सुबह हो तुम्ही और तुम्ही शाम हो
तुम दर्द हो तुम ही आराम हो
मेरी दुआओं से आती है बस ये सदा
मेरी होक हमेशा ही रहना
कभी न कहना अलविदा

आहा हा हा ओ….
मेरी होक हमेशा ही रहना
कभी न कहना अलविदा…

तेरी बाहों में है मेरे दोनों जहां
तू रहे जिधर मेरी जन्नत वहीँ
जल रही अगन है जो ये दो तरफ़ा
न बुझे कभी मेरी मन्नत यही

तू मेरी आरजू , मैं तेरी आशिकुई
तू मेरी शायरी, मैं तेरी मौसिकी
तलब तलब तलब बस तेरी है मुझे
नसों में तू नशा बनके घुलना यूँही

मेरी होक हमेशा ही रहना
कभी न कहना अलविदा…

मेरी सुबह हो , तुम्ही और तुम्ही शाम हो
तुम दर्द हो,  तुम ही आराम हो
मेरी दुआओं से आती है बस ये सदा
मेरी होक हमेशा ही रहना
कभी न कहना अलविदा….

आ…. अलविदा…
ओ… न न …..

Summary
Review Date
Reviewed Item
'जनम जनम' फ़िल्म ‘दिलवाले’ से लिरिक्स एंड गाने
Author Rating
41star1star1star1stargray