‘हाल – ए-दिल ’ फ़िल्म ‘सनम तेरी कसम’ से लिरिक्स एंड गाने

‘हाल – ए-दिल ’ फ़िल्म ‘सनम तेरी कसम’ से लिरिक्स एंड गाने : हाल – ए-दिल श्रीराम चन्द्र , नीति मोहन द्वारा गाए इस गाने को कंपोज़ किया है हिमेश रेशम्मिया ने जबकि सगीत लिखा है  समीर अनजान   ने |

गायक : श्रीराम चन्द्र , नीति मोहन
संगीत:   हिमेश रेशम्मिया
बोल:    समीर अनजान
रिलीज़ कम्पनी : एरोस

हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम
हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम
आपके इश्क की मधोसी में
डूबा है ये आलम…

हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम
हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम

जब शाम आये
तुम याद आये
तूफ़ान लाये , यादों में तुम
बेबाक सी है हर इक तमन्ना
गुस्ताखियों में, अब दिल है गम

ख्वाबों के सिलसिले
बातों के सिलसिले

साथ मेरे चले, रात दिन हर घडी
सरगोशी में खोया है ये आलम
हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम
हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम

जाने कहाँ से
तुम पास आये
हुवे पराये, मुझसे सभी
जीने लगी है, हर सांस मेरी
अब दूर जाना, न तुम कभी

थम गया है समा
पल भी है खुशनुमा
मैं अकेला यहाँ…

आप के प्यास की
ख़ामोशी से भीगा है ये आलम..
हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम
हाल ए दिल , पूछो न सनम
हाल ए दिल , पूछो न सनम

आपके इश्क की मधोसी में डूबा है
ये आलम…

हाल ए दिल मेरा, पूछो न सनम
हाल ए दिल मेरा , पूछो न सनम

जब शाम आये
तुम याद आये
तूफ़ान लाये,यादों में तुम
बेबाक सी है, हर इक तमन्ना
गुस्ताखियों में अब दिल है गुम

ख़्वाबों के काफिले
बातों के सिलसिले
साथ मेरे चलें

रात दिन हर घडी
सरगोशी में खोया है ये आलम

हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम
हाल ए दिल मेरा पूछो न सनम

जाने कहाँ से तुम पास आये
हुवे पराये मुझसे सभी
जीने लगी है हर सांस मेरी
अब दूर जाना न तुम कभी

थम गया है समा
पल भी है खुशनुमा
मैं अकेली यहाँ

आपके प्यास की ख़ामोशी से
भीगा है ये आलम…..
हल ए दिल मेरा पूछो न सनम

Summary
Review Date
Reviewed Item
'हाल – ए-दिल ’ फ़िल्म ‘सनम तेरी कसम’ से लिरिक्स एंड गाने
Author Rating
41star1star1star1stargray

Leave a Reply