‘बोल दो न ज़रा’ फ़िल्म ‘अजहर’ से लिरिक्स एंड गाने

‘बोल दो न ज़रा’ फ़िल्म ‘अजहर’ से लिरिक्स एंड गाने : बोल दो न ज़रा अरमान मालिक  द्वारा गाए इस गाने को कंपोज़ किया है अमाल मल्लिक ने जबकि सगीत लिखा है रश्मि विराग ने |

गायक :  अरमान मालिक
संगीत:   अमाल मल्लिक 
बोल:     रश्मि विराग
रिलीज़ कम्पनी : टी सीरीज

इतनी मोहब्बत करो न
मैं डूब न जाऊं कहीं
वापस किनारे पे आना
मैं भूल न जाऊं कहीं
देखा जबसे चेहरा तेरा
मैं तोह हफ़्तों से सोया नहीं

बोल दो न ज़रा
दिल में जो है छिपा
मैं किसी से कहूँगा नहीं

मुझे नींद आती नहीं है अकेले
खवाबों में आया करो
नहीं चल सकूँगा तुम्हारे बिना मैं
मेरा तुम सहारा बनो
इक तुम्हे चाहने के अलावा
और कुछ हमसे होगा नहीं

बोल दो न ज़रा
दिल में जो है छिपा
मैं किसी से कहूँगा नहीं
मैं किसी से कहूँगा नहीं

हमारी कमी तुमको महसूस होगी
भीगा देंगी जब बारिशें
मैं भर कर के लाया हूँ
आँखों में अपनी
अदुरी सी कुछ ख्वाहिशें
रूह से चाहने वाले आशिक
बातें जिस्मों की करते नहीं

बोल दो न ज़रा
दिल में जो है छिपा
मैं किसी से कहूँगा नहीं
मैं किसी से कहूँगा नहीं

Summary
Review Date
Reviewed Item
'बोल दो न ज़रा' फ़िल्म ‘अजहर’ से लिरिक्स एंड गाने
Author Rating
51star1star1star1star1star