क्या वाकई अकेलापन इतना बुरा है ?

आपमें से कई होंगे जो इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते होंगे कि अकेलापन अच्छा भी हो सकता है…क्या वाकई अकेलापन इतना बुरा है…आखिर मतलब क्या है अकेलेपन का…

ये बात सही है कि इंसान की जिंदगी प्यार के बिना बेकार है लेकिन इसके साथ ही हमें इस बात को भी समझने की जरुरत है कि आप सबकुछ दूसरों के लिए ही ना करें…कुछ अपने लिए भी बचा कर रखें। ये जरुरी नहीं है कि अगर आप जितना प्यार अपने बच्चों से, पत्नी से या पति से या फिर दोस्तों से करते हैं, उतना ही आप वापिस भी लें | कभी–कभी कुछ घटनाऐं जिंदगी को पूरी तरह से बदल कर रख देती है…अपेक्षित प्यार या फिर यूँ कहें कि सम्मान ना मिलने पर आप दुखी हो जाते हैं | कभी-कभी इतना दुखी हो जाते हैं कि आपको अपनी ही जिंदगी का अर्थ और उसका मतलब कम लगने लगता है | लेकिन यही वो बिन्दु है जहाँ से आपको खुद को बाहर निकालना है | अगर इसी बिन्दु पर आप लड़खड़ा जाते हैं तो फिर आप गर्त में चले जाते हैं |

दुख से निकलना आसान काम नही है | लेकिन नामुमकिन भी नहीं है | आपको ये समझने की जरुरत है कि यदि आपने किसी इंसान से ज्यादा आपेक्षा लगाई है तो ये आपकी गलती है ना कि उसकी… उसने जो किया वो उसका दृष्टिकोण है | तो वहीं दूसरी तरफ आप जो करेंगे वो आपका अपना फैसला होगा |

अकेलापन तब लगता है जब आपसे वो इंसान दूर जाता है जिससे आप सबसे ज्यादा प्यार करते हों या फिर आपकी जिंदगीं में उसकी बहुत अहमियत हो | लेकिन किसी के जाने से या आने से जीवन की गति में कोई फर्क नहीं पड़ता है | आपको अकेलेपन से लड़ने के लिए कुछ कारण ढूढंने होंगे | खुद की अहमियत समझनी होगी | अकेलापन आपको अवसर देता है | आपको खुद को ढूंढे और खुद को पहचाने का | आपको समझना होगा कि आपकी जिंदगी का उद्देश्य क्या था जो शायद आप जिंदगी की कशमकश में भूल गये हों | क्या है वो जो आपको खुशी दे सकता है |

आप हमेंशा एक बात याद रखें कि कभी भी अपनी सारी खुशियों को किसी एक पत्थर से ना बांधे यानी किसी एक चीज या फिर इंसान में ना लगा दें | अपनी खुशियों को छोटे-छोटे टुकड़ों में बांध दें | ताकि अगर आपकी खुशी वाला एक पत्थर डूबता भी है तो आपके पास दूसरे पत्थर हैं जो आपको ये सांत्वना देते हैं कि अभी भी आपके पास खुशियों का एक बड़ा इन्वेस्टमेंट है |

ये आपकी जिंदगीं है इसे सिर्फ दूसरों पर न्यौछावर करने के अलावा थोड़ी सी खुद के लिए भी संभाल कर रखें | अकेलेपन को खुद के ऊपर हावी होने की बजाय आपको उस पर हावी होने की जरुरत है | खुद को तलाश करें | जो आप करना चाहते थे वो करें | खुद की अहमियत को समझें और खुद का सम्मान करें |

अगर आपके पास भी कुछ अनुभव है हमारे साथ शेयर करने के लिए तो हमारे साथ जरुर शेयर करें…क्योंकि दूसरों को ना केवल प्रेरित बल्कि जीवन में और आगे बढ़ने के लिए हौसला दे सकते हैं..।

 

 

Summary
Article Name
क्या वाकई अकेलापन इतना बुरा है ?
Author
Publisher Name
Trendinghour

Nandini Singh

नंदिनी सिंह ट्रेंडिंगऑवर में एडिटोरियल प्रड्यूसर हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Have Entered Wrong Credentials