इन रामबाण से करे रोते हुए बच्चे को मिनटों में शांत…

मेरा एक भतीजा है 6 महीने का “अंशुम”| दिन भर के थकान एवं समस्याओं से झुझते हुए जब भी घर पहुँचता हूँ तो उसकी हसी “सब ठीक” कर देती है| भाई बच्चे होते ही ऐसे हैं| माशूम, अपने एवं साफ़ झलकती सच्चाई के वजह से हम इन्हें भगवन का दूसरा रूप मानते हैं| जब एक बच्चा छोटा होता हैं तो अपनों से संवाद करने के लिए वह रोता हैं| मगर कभी-कभी बेवजह उनकी रोने से हम खासे परेशान हो जाते हैं| खासकर समस्या तो तब बढ़ जाती हैं जब बच्चा किसी पुरुष के हाथों में हो| ऐसे में इस विस्तृत लेख के माध्यम से हम आज आपको समझायेंगे की आखिर बच्चे रोते क्यूँ हैं एवं उनके रोने को चुप कैसे कराया जाये (How to soothe a crying baby in Hindi).

crying baby
crying baby

क्या है रोने की वजह (Why does a baby cry)


आइये जानते हैं वो 5 कॉमन वजह जिसके वजह से बच्चे रोते हैं.

  • भूख लगना नवजात शिशु के रोने के सबसे आम कारणों में से एक है।
  • यदि आपके बच्चे का नैपी (लंगोट) गिला है या फिर यदि बच्चे ने मलत्याग कर दिया हो तो यह भी एक वजह हो सकती है बच्चे की रोने की|
  • यदि बच्चे को ज्यादा गर्मी या फिर ज्यादा शर्दी लग रही हो तो फिर भी बच्चा रो सकता है|
  • कई बार बच्चा बिस्तर में परे-परे भी बोर हो जाता हैं ऐसे में बाहर निकलने अथवा घुमने के जिद लिए भी बच्चा रो सकता है|

इसे भी पढ़े: हमारे शरीर से जुड़ीं 50 ऐसी बातें जो शायद आप नहीं जानते होंगें.

  • बहुत से नवजात शिशु चिड़चिड़ाहट के वजह से भी आसानी से शांत नहीं होते। यदि आपका शिशु कुछ मिनटों तक शांत करवाने पर भी शांत न हो और रोता ही जाए या फिर वह कई घंटों तक लगातार रोता रहे, तो इसे कॉलिक कहा जाता है। कई बार बच्चे कॉलिक के वजह से भी रोते हैं|

क्या हैं इसका समाधान..?


यदि आप बच्चे के रोने की सही वजह समझ चुके हैं तो अब बारी हैं उसके अनुकूल कुछ करने की| आइये जानते हैं कुछ ऐसे समाधानों के बारे में जिसे अपना आप मिनटों में बच्चों को चुप करवा सकते हैं|

  • यदि आपका शिशु भूखा है तो उसे स्तनपान कराएं| उम्र के साथ आप उन्हें चाहे तो अन्य पौष्टिक आहार जैसे सेरेलक एवं बार्ले इत्यादि भी दे सकते है|
  • आपका शिशु पूरा दूध एक बार में न पी पाता हो तो थोड़े अंतराल के बाद हो सकता है कि वह फिर रो दे| ऐसे में आप उन्हें दोबारा जल्द दूध पिलाकर देख सकते हैं| इसे फीडिंग ओन डिमांड कहा जाता है|
  • शिशु के डायपर अथवा गद्दे को हिला-डूला कर देख ले हो सकता है कि बच्चे की डायपर बदलने की बारी हो या फिर बच्चे ने मल त्याग किया हो|
  • बहुत ज्यादा गर्मी अथवा शर्दी लगने के हालत में आप चाहे तो कमरे का तापमान सामान्य बनाये रख सकते है| बहुत गर्मी में बच्चे के ऊपर लदे कपड़ो अथवा चादर की एक तर हटा दे एवं अत्यधिक शर्दी में बच्चे के शरीर में एक तर कपडे और बढ़ा दे|

इसे भी पढ़े: अपने गर्भ में पल रहे बच्चे का रखें खास ख़याल (खान-पान)

  • यदि आपका शिशु गोद में आने की जिद करे तो उसे प्यार से अपने गोद में ले एवं सीने से दबाकर थोडा चहल कदमी करे| इस दौडान बच्चे की पीठ थपथपाते हुए फिर से सुलाने की कोशिश करे|
  • ध्यान दे शिशु के सोते वक़्त शांत वातावरण बनाये रखे| थोड़ी सी भी आवाज होने पर बच्चे की नींद टूट सकती है| अपने शिशु को सुलाने के लिए किसी शांत जगह पर ले जाएं। रोशनी कम कर दें और उसे शांत होने में मदद करें।

कब ले डॉक्टरों से सलाह


याद रखे कोई भी आपके शिशु को आपसे बेहतर नहीं जान सकता। यदि आपके चुप कराने के सारे प्रयासों के बावजूद भी बच्चा शांत नहीं हो रहा हो और बच्चे के रोने में दर्द एवं आग्रहपूर्ण जैसा कुछ लगे तो तुरंत ही अपने नजदीकी डॉक्टर से परामर्श करे|

  • जब बच्चा लगातार रो रहा है और काफी चुप करने के बाद में चुप न हो|
  • यदि बच्चे की शरीर बहुत ज्यादा ताप रही हो और छूने से बुखार की अनुभूति हो|
  • बच्चा बार-बार उलटी कर रह हो और कुछ खाने पर बाहर निकाल दे रहा हो|

इसे भी पढ़े: समय से पूर्व जन्मे बच्चों बच्चो के माँ-बाप करते हैं ज्यादा परवाह

  • उसे दस्त (डायरिया) या कब्ज है।
  • ध्यान दे, नया दांत आते वक़्त भी दर्द बच्चे सह नहीं पाते एवं  उस वक़्त शिशु सामान्य से ज्यादा चिड़चिड़े हो जाते हैं।

याद रखे कि रोना भी बच्चो के स्वभाव का ही एक रूप है एवं इसमें घबराने जैसा कुछ भी नहीं| वक़्त के साथ जैसे-जैसे आप अपने शिशु के व्यक्तित्व को जानने लगेंगी वैसे-वैसे आपको उन्हें समझने और शांत करवाने में आसानी मिलेगी|  यह बात गाँठ बाँध ले कि रोना किसी तरह की समस्या नहीं है यह बस एक जरिया हैं अपनी जरूरतों को अपने खास तक पहुचने का

स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा धन होता है वाली मानसिकता को बढ़ावा देती हमारे हेल्थ सेगमेंट से जुड़ आप विभिन्न स्वास्थ्य विकारो एवं गुड हैबिट्स के बारे में जान अपने सेहत को एक नयी उचाई दे सकते है.

Dr. Priya Shree

डॉक्टर हूँ, अब राइटर हो रही हूँ। क्लोमिस्ट ट्रेंडिंग ऑवर|