सफलता का मूल मंत्र ‘आपका व्यवहार ही आपकी पहचान है’

बचपन में एक कहावत सुनी थी की “अकेला चना क्या भाड़ फोड़ेगा” | पापा से जब इसका अर्थ पूछता तो पापा हँसके एक और कहावत सुना देते की “एकता में बल है” | जब पापा के मुहावरों में उलझने लगता तो मम्मी प्यार से समझा देती की बेटा सफलता पाने के लिए आप मात्र प्रयास ही कर सकते हैं परन्तु आपको भी समय-समय पर प्रेरणा एवं प्रोत्साहन की आवश्यकता होती रहती है | अगर आपके व्यवहार से कोई व्यथित हो जाता है तो जरा सोचो वो आपके लिए भला क्यूँ सोचेगा…?

आपकी मेहनत, क्षमता, काबिलियत एवं सोच के दरमियाँ विचारो की अभिव्यक्ति एवं दुसरो के साथ आपका व्यवहार ही आपको सफलता का परचम लहराने में मदद करता है | आप अपने व्यवहार में जितने कुशल, दक्ष और बहुमुखी हो पायेंगे, आगे चलकर आप उतने ही कामयाब भी हो पायेंगे |

अपने विचार प्रकट करने में कभी संकोच न करें : हम मिडिल क्लास फॅमिली में ज्यादातर यही देखा जाता है की बचपन से लेकर जवानी तक हम मात्र अपने परिवार एवं समाज के ही सपनो को पुरा करने में लगे रहते हैं | अपने विचार को प्रकट करने में संकोच करना आपकी हार की एक वजह बन सकती है | ये मत भूलें की अपने विचारों को सही तरह से अभिव्यक्त करने के अभाव में आप वो तो बन जायेंगे जो लोग चाहते हैं परन्तु वो नहीं जो आप करना चाहते हैं..

अपने व्यवहार में मधुरता लाये: कल्पना कीजिये आपके दो दोस्त हैं | एक जो हमेशा आपको जली-कटी बाते सुनाता है एवं दुसरा जो आपके हर सुख-दुःख में आपकी मदद करता है | आपको क्या लगता है इन दोनों दोस्तों में वक़्त आने पर आप सबसे पहले किसकी मदद करना चाहेंगे…? जवाब हम सबको पता है.. जी हाँ, एक अच्छा व्यवहार न सिर्फ आपको समाज में एक अच्छे इंसान के रूप में स्थापित करेगा वरन लोगों का प्यार भी आपको आगे बढ़ने में काफी मदद करेगा |

डर के आगे जीत है: हम में से बहुत सारे लोग अक्सर अपना सेफ-साइड लेकर चलना चाहतें हैं | भविष्य को लेकर चिन्ताएं हमे हमेशा आगे बढ़ने से रोकने का काम करती हैं | कभी भी ऐसे भाव मन में न लायें की आपका प्रयास असफल हो सकता है या आपको घर-समाज के ताने सुनने को मिल सकतें हैं | आप इस विश्वास के साथ अपने प्रयास में लगे रहें की आपकी प्रतिभा एवं आपका सामर्थ्य मुश्किल से मुश्किल दौर से भी आपको निकलने में सक्षम हो पायेगा | विश्वास कीजिये आपके डर के आगे ही आपकी जीत है |

दुसरों की सफलता में भी खुश होना सीखें : यार राहुल ने तो बैंक पीओ निकाल दिया अब मेरे घर वाले फिर ताना मारेंगे …!! अक्सर ऐसा देखने को मिलता है की हम दूसरों की सफलता से अच्छे खासे खुश नहीं हो पाते | याद रखें दुसरों के प्रति आपकी सकारात्मक सोच उनके दिलों में आपके प्रति एक स्वच्छ छवि गढ़ने में मदद करेगी | दुसरों की सफलता में खुश होना सीखें | हो सके तो आप उनसे उनकी सफलता के राज़ भी साझा करने को बोल सकते हैं | ऐसा करने से आपको अपनी तैयारी एवं अपनी सफलता के बीच के अंतर को समझने में काफी मदद मिलेगी |

खुद को प्रमाणित करें : अंग्रेजी में एक कहावत है “ एक्शन स्पीक्स लाउडर देन वर्ड्स” | जी हाँ, कथनी से करनी अच्छी होती है | बचपन से ले जवानी तक हम अपने सपने एवं भविष्य को लेकर अपनी सोच-विचारों को एक दुसरे से साझा करते रहते हैं | ध्यान दें आपकी काबिलियत एवं आपके सपनों के बारे में आपसे बेहतर कोई नहीं जानता | हो सकता है की आप अपने सपनों को दुसरों को ठीक से नहीं समझा पायें एवं समाज से आपको “बरबोले” की उपाधि मिले परन्तु ये बात हमेशा याद रखें की आपको बस एक बार अपनी काबिलियत साबित करनी है फिर जाकर ये दुनिया आपकी धुन में नाचने को तैयार है |

हर व्यक्ति सफल बनना चाहता है एवं सफल होने के विश्वास के साथ वो निरंतर प्रयास करना भी जानता है, परन्तु निरंतरता में अभाव एवं एक अच्छे मार्गदर्शन के अभाव में बहुत कम लोग ही सफल हो पाते हैं बाकियों को वक़्त एवं हालात के साथ समझौता करना पड़ता है | ये मत भूलें की आपके और एक कामयाब इंसान के बीच में सिर्फ और सिर्फ आपकी सोच का अंतर होता है | वक़्त किसी के अनुकूल नहीं होता एवं हालात कभी भी आपको विचलित कर सकते हैं | ऐसी विषम परिस्थितियों में मात्र धैर्य एवं समझदारी ही आपकी मदद कर सकती है |

 

Summary
Review Date
Reviewed Item
सफलता का मूल मंत्र 'आपका व्यवहार ही आपकी पहचान है'
Author Rating
51star1star1star1star1star