दिल्ली मेट्रो के बारे में रोचक तथ्य जो आप नहीं जानते हैं

दिल्ली मेट्रो के बारे में : साल के शुरुआती दौर में ही एक रिपोर्ट आई जिनमे जिसमे कहा गया है कि दिल्ली भारत के सबसे पसंदीदा शहर है, पर्यटकों में मुख्य आकर्षण का बिंदु दिल्ली अपने पर्यटकों के साथ-साथ यहाँ के निवासियों को भी हमेशा अपनी नयी-नयी चीजों से आकर्षित करता आया है। देश के इसी दिल की जीवन रेखा है, दिल्ली मेट्रो। 2001 में दिल्ली मेट्रो शुरू हुई थी, तब से यहाँ पर रहने वाले लोगों की यात्रा बेहद सुलभ हो गई है। देशी-विदेशी पर्यटकों के बीच भी दिल्ली में सबसे पहला आकर्षण दिल्ली मेट्रो ही है। दिल्ली को आपस में जोड़ती दिल्ली मेट्रो ने लोगों की ज़िन्दगी तो आसान की ही है, दुनियाभर में भी अपनी नयी पहचान बनायी है।

राजधानी दिल्ली की एक अहम् साधन बन चुकी दिल्ली मेट्रो में तो आपने कईयों बार सवारी की होगी। कई बार अपने मेट्रो मिस भी किया होगा। सुबह स्कूल/कॉलेज/ऑफिस टाइमिंग में मेट्रो में थक्के भी खाएं होंगे। दिल्ली में बिछे अगल-अगल लाइनों के बारे में भी आपको जानकारी होगी, लेकिन आज जो हम आपको बताने जा रहे हैं यकीनन उसके बारे में आप नहीं जानते होंगे। जी हाँ, हम आपको दिल्ली मेट्रो के बारे में ऐसे रोचक तथ्यों से अवगत करवाने जा रहे हैं जिसके बारे में शायद आप नहीं जानते हो|

तो देर किस बात की शुरू करते हैं “दिल्ली मेट्रो के बारे में रोचक तथ्य जो आप नहीं जानते हैं”

(1.) यूनाइटेड नेशन (यूएन) ने दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) को ऐसे पहले मेट्रो के रूप में सर्टिफाई किया है जिसे ग्रीन हाउस गैस के उत्सर्जन में कमी के लिए कार्बन क्रेडिट प्रदान किया गया है।

यूनाइटेड नेशन फ्लैग
यूनाइटेड नेशन फ्लैग

(2.) Stations के स्वचालित सीढ़ियों (एस्केलेटर्स) में ‘साड़ी गार्ड’ सिस्टम है| इसका मतलब यह है कि अगर आपके कपड़े एस्केलेटर में फंस जाते हैं, तो आप सीढ़ियों के Emmergency Button का इस्तेमाल कर एस्केलेटर को रोक सकते हैं।

 

(3.) आप यह बताएं कि आपको दिल्ली मेट्रो के उद्घोषक के आवाज़ कैसे लगते हैं, प्यारा ना ? यहाँ आपके बता दें कि ये प्यारी महिला की आवाज़ मिस रिनी सिमोन खन्ना की है जबकि पुरुष की आवाज़ मिस्टर शम्मी नारंग की है।

 

(4.) दिल्ली मेट्रो के प्लेटफॉर्म्स को इस तरह से बनाया गया है कि नेत्रहिन व्यक्ति बिना किसी की मदद लिए मेट्रो में सफर कर सकते हैं। आपने प्लेटफार्म पर पीली रेखा देखि होगी ये नेत्रहीन के सहारे के लिए बनाया गया है।

Delhi Metro
Delhi Metro

 

(5.) साल 2014 में दिल्ली मेट्रो ने एक नया कृतिमान कायम किया, जी हाँ दिल्ली मेट्रो दुनिया में सबसे प्रसिद्ध मेट्रो सिस्टम न्यूयॉर्क मेट्रो के बाद दुसरे पायदान पर है|

 

(6.) यदि अपने ध्यान से देखा हो तो आपको याद होगा दिल्ली मेट्रो के किसी भी मेट्रो स्टेशन के भीतर डस्टबीन नहीं है। बावजूद इसके सभी स्टेशन आपको साफ़-सुथरे मिलेंगे।

इसे भी पढ़ें : दिल्ली मेट्रो में इन लड़कियों के अश्लीलता देख हो जाएँगे आप हैरान

(7.) 2009 से दिल्ली मेट्रो में कोई फेयर नहीं बढ़ाया है, लेकिन इसके बावजूद भी वह मुनाफा कमा रही है। जबकि इसका ऑपरेशन कॉस्ट लगातार बढ़ता जा रहा है। 2011 में इसका लाभ 767.66 करोड़ था जो 2014 में बढ़कर 1062.48 करोड़ हो गया।

 

(8.) यदि आपने दिल्ली मेट्रो में सवारी की होगी तो आपने बिजली गुम होने का भी अनुभव किया होगा जिसमें मेट्रो की लाइट्स, ए.सी सब बंद हो जाते हैं। असल में वह बिजली कट नहीं पावर शिफ्ट होता है जो डी.एम.आर.सी द्वारा ही किया जाता है।

 

(9.) यात्रा के साथ भी जी हाँ, ट्रेवलिंग के बाद भी उपदेश के साथ दिल्ली मेट्रो में मेट्रो यात्रा के बाद स्टेशन के नीचे ही साइकिल सवारी की सुविधा भी उपलब्ध है।

आप 10 रुपए में 4 घंटे के लिए साईकिल किराये पर ले सकते हैं इसके लिए कोई भी ID कार्ड साथ में जरुर रखें.

साईकिल दिल्ली मेट्रो
साईकिल दिल्ली मेट्रो

(10.) कभी आपने दिल्ली मेट्रो में Odd Number में जैसे कि 5 या 7 संख्या में कोच देखी हैं? नहीं ना! क्योंकि मेट्रो में हमेशा सम संख्या 6 या 8 कोच होते हैं।