रॉकी हैंडसम : एक्शन के अलावा कुछ नहीं

निर्देशन निशिकांत कामत
कास्ट:  जॉन अब्राहम, दिव्या चलवाड़, निशिकांत कामत और शरद केलकर

इससे पहले कि आप ये पूरा ब्लाग पढ़े और इस नतीजे पर पहुंचें की रॉकी हैंडसम क्यूँ देखें…यहाँ यह बताना जरुरी है कि फिल्म आपके लिये है अगर आप जॉन अब्राहम के डाई हार्ट फेन हैं और एक्शन सीन्स आपकी कमजोरी है….जी हाँ, अगर फिल्म के बाकी पक्षों पर नजर ना डाली जाए तो ये फिल्म खासतौर से जान अब्राहम के फैंस के लिए एक जबरदस्त ट्रीट है… खैर, अगर आप एक्शन सीन्स और जान अब्राहम के फैंस ना भी हो, तो आपको ये फिल्म क्यूं देखनी चाहिये…क्या हैं फिल्म के पॉजिटिव और नेगेटिव फैक्टर…इन सबका लेखा जोखा किया जा रहा है इस फिल्म रिव्यू ब्लाग में…

फिल्म की कहानी काफी ढीली है

ट्रेलर आप देख ही चुके हैं लेकिन फिल्म देखने के बाद आपको इस बात का एहसास होगा कि फिल्म में कहानी के नाम पर ज्यादा कुछ नहीं है..फिल्म के किरदारों के बीच स्ट्रांग कनेक्शन की जबरदस्त कमी है…आपको ये खल सकता है..खैर फिल्म की कहानी जान अब्राहम के ईर्द गिर्द घूमती है जो खुद को अपने मे समेट कर रखता है..वो लोगों से ज्यादा घुलता मिलता नहीं है..काफी अलग-थलग रहता है और इसके पीछे उसका दर्द भरा अतीत है…लेकिन उसकी इस बेरंग पड़ी जिंदगी में दखल देती है एक नन्ही सी परी..जी हां..वो नन्ही परी हैं दिव्या जो फिल्म में नाऔमी के किरदार में दिखती है..वो उसे दर्द से बाहर लाने की कोशिश करती है…लेकिन हालात कुछ इस कदर बिगड़तें हैं कि नाऔमी की माँ को ड्रग्स के केस में पुलिस हिरासत में लेती है|

संगीत की धुन फीकी है

भले ही संगीत पर काफी मेहनत की गई है..जो कि साफ तौर पर दिखती भी है लेकिन गाने उतने जबरदस्त नहीं है जितनी उम्मीद की गयी थी….ऱाहत फतेह अली खान का ‘ए खुदा’ को छोडकर कोई भी गाना ज्यादा मजेदार नहीं है..

अभिनय के लिहाज से

श्रुति हसन का कैरेक्टर बहुत अधिक बड़ा नहीं है इसलिए उनके अभिनय का आंकलन का सवाल नहीं उठता …यहां इस बात का जिक्र करना भी जरुरी है की श्रुति को अगर लंबी रेस का घोड़ा साबित होना है तो गेस्ट अपीयरेंस छोड़ कर मुख्य रोल पर ध्यान केन्द्रीत करना चाहिये…दिव्या अपने रोल में जान डाल देती है..भले ही छोटी हैं लेकिन उनके अभिनय में ये बात कतई नहीं झलकती है और पर्दे पर अपनी जबरदस्त मौजूदगी का अहसास दिलाती है..जॉन चेहरे और शक्ल दोनों से ही प्रभावित करते है…एक्शन सीन्स करते हुए लाजवाब लगते हैं…

3 कारण क्यों देखे ऱाकी हैंडसम :

  1. अगर एक्शन सीन्स से प्यार है और किसी भी कीमत पर अच्छे एक्शन सीन्स वाली फिल्म को मिस नहीं करना चाहते हैं तो ये फिल्म आपके लिए हैं.
  2. दिव्या अपने शानदार अभिनय से समां बांध देती है…
  3. जॉन की जबरदस्त फिजिक उनके फैंस को टिकट खिडकी तक खींच सकती है..

तो फिर इंतजार किस बात है…वींकेंड स्टार्ट हो चुका है…ऱाकी हैंडसम के साथ एंजाय करे… कैसी लगी आपको राकी हैंडसम हमारे साथ शेयर करना ना भूलें… और हाँ..बने रहिए हमारे साथ बालीबुड की चटपटी गासिप को जानने के लिये…

 

हिंदी खबर से जुड़े अन्य अपडेट लगातार पानेे के लिए हमें फेसबुक ,गूगल प्लस और ट्विटर पर फॉलो करे|

Summary
Review Date
Reviewed Item
रॉकी हैंडसम
Author Rating
21star1stargraygraygray

Nandini Singh

नंदिनी सिंह ट्रेंडिंगऑवर में एडिटोरियल प्रड्यूसर हैं|