Azhar मूवी रिव्यु : मोहम्मद अजहरुद्दीन की नजर से ही है अजहर

इस शुक्रवार रिलीज हुई अजहर ने मोहम्मद अजहरुद्दीन के जीवन से जुडी कई चीजों से पर्दे उठाया…लेकिन हम यहां फिल्म अजहर की उन चीजों से पर्दी उठाने जा रहें है जो किसी भी फिल्म को खास या बेकार बना सकती हैं। आइये देखते है मूवी रिव्यू

अजहर की एक झलक :

  • निर्देशन : टोनी डिसूजा
  • प्रोडूसर : सोभा कपूर, एकता कपूर, सोनी पिक्चर्स
  • स्टार कास्ट : इमरान हाशमी, नर्गिस, प्राची देसाई, कुलभूषण खरबंदा, लारा दत्ता, कुणाल राँय कपूर
  • संगीत : अरमान मालिक
  • सिनेमाग्राफी : राकेश सिंह
  • प्रोडक्शन कंपनी : सोनी पिक्चर्स नेटवर्क, बालाजी मोशन पिक्चर्स, इंडिआना फिल्म नेटवर्क
  • भाषा : हिंदी

आइये जानते है फिल्म अज़हर की कहानी:

मोहम्मद अजहरुद्दीन का किरदार इमरान हाशमी निभा रहे हैं जिसके बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक है और ये शौक उन्हें उनके नाना से मिला है..ये किरदार कुलभूषण खरबंदा द्वारा निभाया जा रहा है।

उनके नाना जी ने ही उन्हें ये सपना दिखाये है कि वो क्रिकेट में ना केवल अपना कैरियर बनायें बल्कि सौ टेस्ट मैच भी खेलें। अजहर को उस समय टीम में सेलेक्ट किया जाता है जब उनके नाना जी अपनी मृत्यु शैय्या पर थे |

लेकिन फिल्म में टिवस्ट तब आता है जब वो अजहर अपनी कामयाबी के शिखर पर है और संगीता की एंट्री उनकी लाइफ में होती है। अजहर संगीता के प्यार में इस तरह गिरफ्त हैं की अपनी पहली पत्नी नौरीन यानी प्राची देसाई से तलाक ले लेते हैं।

इसके बात उनका नाम मैच फिक्सिंग से जुड़ता है और उन्हें टीम के बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है। इसके बाद क्या होता है इसके लिये आपको थियेटर जाना पड़ेगा।

ऐक्टिंग की क्लास –

  • इमरान हाशमी – इमरान की मेहनत साफ तौर पर फिल्म में देखी जा सकती है। किसिंग किंग के तौर पर फेमस इमरान इस फिल्म में भी प्राची और ऩरगिस के साथ किस देत हुये नजर आते हैं |
  • नर्गिस – नरगिस के लिये इस फिल्म में करने को ज्यादा कुछ नहीं था।
  • प्राची देसाई – नौरीन के किरदार में प्राची ने जान फूंक दी हैं। और एक्टिंग के मामले में नरगिस से अव्वल आती हैं।
  • कुलभूषण खरबंदा- अपनी परफार्मेंस से इम्प्रैस करते है। नाना जी के किरदार उन्होनें बखूबी निभाया है इसमें कोई दो राय नहीं है।
  • लारा दत्ता- फिल्म में ठीकठाक है ज्यादा करने के लिये कुछ नहीं था
  • कुणाल राँय कपूर- अजहर का केस ल़ड़ रहे वकील के रुप में कुणाल बेहद ही प्रभावकारी रहे है। उनकी एक्टिंग काबिलेतारीफ है क्योकि वो अपने किरदार में जान फूंक देते हैं।

फिल्म का संगीत कर्णप्रिय है:

फिल्म की रिलीज से पहले ही इसके जबरदस्त गानों ने लोगों का ध्यान खींच लिया था। चाहें औये-औये हो, पत्ता-पत्ता जानता है या फिल इतनी सी बात है…मुझे तुमसे प्यार है…सारे ही गाने अच्छे है सुनने में।

निर्देशन की पकड़ कही कहीं पर ढीली पडी है:

  • फ्लिम के डायरेक्टर डिसूजा ने फिल्म पर मेंहनत की है। और अच्छी तरह से फिल्म को दर्शाने में सफल भी हुये।
  • कहीं कहीं पर फिल्म कंफ्यूज़ड नजर आती है। ऐसा लगता है फिल्म को अजहर के नजरिये से ही पेश किया गया है। वो जो कहना चाहते थे और जो उनके दिल में दबा हुआ था वहीं फिल्म में दिखाया गया है |

क्यों देखें इस फिल्म को :

  • अगर आप इमरान के और अजरुहद्दीन के फैन हैं तो फिल्म देखने के लिये जरूर जायें।
  • इमरान के इस फिल्म में अच्छे लुक में दिखाई देते है अगर उनके अलग अंदाज में देखना चाहते हैं तो जरुर जाये फिल्म देखने के लिये।
  • अगर एक दो बातें छोड़ दी जाये तो फिल्म बोर नहीं करती है।

यदि आपके पास भी अज़हर से जुड़े तथ्य हैं तो हमसे शेयर करें !

Summary
Review Date
Reviewed Item
अज़हर फ़िल्म रिव्यु
Author Rating
31star1star1stargraygray

Nandini Singh

नंदिनी सिंह ट्रेंडिंगऑवर में एडिटोरियल प्रड्यूसर हैं|