गीता का आपकी लाइफ से गहरा संबंध है जाने कैसे

Gita Updesh in Hindi: गीता के बारे में कौन नहीं जानता है लेकिन कितने हैं जो गीता के संदेश या फिर कृष्ण द्वारा बतायी बातों के बारे में जानते हैं। जाहिर है आज की भागदौड़ की जिंदगी का हिस्सा बन जाने के बाद तो कुछ पढ़ने के लिए समय निकालना और भी कठिन हो जाता है। लेकिन इसीलिए हम आपके लिए लाये हैं ये कंटेंट जिसमें कृष्ण के संदेशों के बारें में संक्षेप में व्याख्या दी गई है। आईये जानते हैं |

1. आप जिस शरीर पर गुमान करते हैं वो भी आपका नहीं है क्योंकि इस शरीर को छोड़ कर आपको जाना होता है ये शरीर पंच त्तत्वों से मिलकर बना है जो कि इसी संसार में मिल जायेगा। आग, जल, वायु, आकाश और पृथ्वी और ये सब मिलकर ही आपका शरीर बना है।

2. अगर आप चाहते हैं कि दुखों से दूर रहें तो जरुरी है कि आप ईश्वर को सदैव याद रखें क्योंकि ये ही जो आपके दुखों का निवारण कर सकते हैं। आपकी सारी चिंता दूर हो जायेगी।

3. कृष्ण गीता में कहते हैं कि तुम बिना वजह चिंता क्यों करते हैं, क्यों डरते हैं और कौन तुम्हें मार सकता है क्योंकि आत्मा ना तो कभी मरती है और ना ही इसका कभी जन्म होता है। ये सिर्फ शरीर है जो साथ छोड़ता है क्योंकि ये बुढ़ा हो जाता है| आत्मा पूरे जन्म और जन्म के बाद भी एक समान रहती है।

Gita Updesh in Hindi:

4. गीता में श्री कृष्ण कहते हैं कि जो भी होता है वो अच्छे के लिए होता है और इस पर दुख करने का कोई कारण नहीं है क्योंकि जो हुआ है वो अच्छे के लिए हुआ है और जो हो रहा है वो अच्छे के लिए ही हो रहा है और आगे भी जो होगा वो अच्छा ही होगा। तो इस बात का कोई फायदा नहीं है कि आप उस बात पर पश्चाताप करें जो कि बीत गया है या फिर भविष्य के लिए चिंतित करना। जो वर्तमान है सिर्फ उसके बारे में सोचो।

5. इस बात के लिए मत डरो कि तुम्हारे पास क्या है जो तुम खो दोगे। तुम्हारे साथ कुछ नही जायेगा जो तुम डर रहे हो कि अगर खो गया तो क्या होगा। तुम अपने साथ कुछ नहीं लाये थे और ना ही ले जाओगे। इसीलिए अपने आप के इस डर से मुक्त कर दो।

6. जो कुछ भी आज आपका है उसके लिए ज्यादा सोचने की जरुरत नहीं है क्योंकि जो आज तुम्हारा है वो कल किसी और का होगा और उसके बाद वो किसी और का होगा।

7. परिवर्तन को नकारा नहीं जा सकता है और इसे आपको मानना ही पड़ेगा। आप इस बात को लेकर सुरक्षित ना रहें कि आपके जो आज हैं वो कल भी रहेगा। अगर आप पैसे में खेल रहे हैं तो कल को ऐसा भी हो सकता है कि आपके पास कुछ ना हो। क्योंकि आप समय के बारें में कुछ नहीं कह सकते हो।

आदिशंकर ने कहा है कि गीता सभी वैदिक ग्रंथों का एक सार है इसे पढ़ना सभी ग्रंथों को पढ़ने के बराबर है। अल्बर्ट आइंस्टीन ने गीता पढ़ने के बाद कहा कि इससे पता चलता है कि ईश्वर ने संसार की रचना किस प्रकार की। सत्य जानने के बाद सब कुछ फीका लगता है महात्मा गांधी ने कहा कि गीता पढ़ने के बाद मुझे दुखों में भी मुस्कुराने की वजह मिल जाती है। हर्मन हीज ने कहा कि गीता आश्चर्यजनक तरीके से सत्य को उद्घारिरत करती है जिसको हम जानकर भी नहीं जानना चाहते हैं।

धरम एवं संस्कृति से जुड़े ऐसे ही बातो से जुड़ने के लिए हमारे पेज पर बने रहे|

Tag: Gita Updesh in Hindi

 

Nandini Singh

नंदिनी सिंह ट्रेंडिंगऑवर में एडिटोरियल प्रड्यूसर हैं|

Leave a Reply