बारबरिक- महाभारत का एक महान योद्धा

Mahabharata Barbarik Story in Hindi: अक्सर हम जब महाभारत की बात करते हैं तो हमारे मन में कौरवों एवं पांडवो के सिवा शायद ही किसी और का नाम याद रहता है | परन्तु सच तो ये है कि कौरवों एवं पांडवो के अलावा भी महभारत में कई ऐसे योद्धा थे जो अपने साहस एवं पराक्रम के जोड़ पर एक क्षण में ही युद्ध का रुख बदलने का मुद्दा रखते थे | ऐसे ही एक महाबली थे वीर घटोतकच के पुत्र एवं भीम के पौत्र बारबरिक |

Mahabharata Barbarik Story in Hindi:

महादेव से मिली शक्तियों से बारबरिक एक अभेद्य ढाल बन गए थे | उनके पास कई ऐसी दिव्य शक्तियां थी जिसके फलस्वरूप वे चुटकियों में महाभारत का रुख बदल देते | वे अपने बाणों की शक्ति से किसी भी  योद्धा को चिन्हित कर उन्हें बचा बाकि समस्त सेना को एक ही बार में ख़तम कर सकते थे | ऐसे में अपनी शक्ति का कहीं दुरूपयोग न हो पाए इस वजह से उन्होंने अपनी माँ को ये वचन दिया था कि वे केवल कमजोर पक्ष का होकर ही युद्ध लड़ेंगे | पांडवो के समक्ष कौरवों की सेना को कमजोर होता देख यदि बारबरिक कौरवों से होकर युद्ध लड़ते तो ये संभव था कि पांडव ये युद्ध कभी न जीत पाते |

ऐसे में प्रभु कृष्ण को ये चिंता सताई जा रही थी कि किस प्रकार इस योद्धा से छुटकारा पाया जाये |अपनी कुटनीतिक प्रतिभा का परिचय देते हुए कृष्ण जी ने वीर बारबरिक को जाकर ये तर्क दिया कि आप जैसे वीर शक्तिशाली जिस भी पक्ष का होकर लड़ेंगे वो पक्ष तो ऐसे ही मजबूत हो जाएगा ऐसे में आप कमजोर पक्ष के होकर किस प्रकार लड़ पायेगे…??

इसे भी पढ़े: सावन के महीने में एक प्योर शिवभक्त द्वारा भांग कि महिमा का बखान

अतः मेरी आपसे ये विनती है कि आप युद्ध में सरीक होने का विचार अपने मन से त्याग दे | युद्ध के शुद्धिकरण हेतु हमे किसी वीर क्षत्रिय की आहुति चाहिए, अतः मेरा आपसे ये निवेदन है कि आप युद्ध की औचिकता का ख्याल रखते हुए अपने सर को आहुति समक्ष पेश करें |कृष्ण के इन बातो में आ वीर बारबरिक ने अपने प्राणों की आहुति दे महाभारत के इस युद्ध को पूरी तरह पांडवो के पक्ष में मोड़ दिया | इस तरह अंत हुआ वीर बारबरिक का | ताज्जुब होता है कि इतिहास के पन्नो में इस महाबली बारबरिक की कहानी कहीं खो कर रह गयी |

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) :   इस लेख में प्रकट कि गयी जानकारी लेखक द्वारा गहन अध्यन एवं रिसर्च के पश्चात दी गयी है. रीडर्स ध्यान दे कि कुछ तथ्य जुटाने हेतु महाग्रंथो के विभिन्न अध्यायो से मदद ली गयी है. ऐसे में रीडर्स से अनुरोध है कि वे लेख पढ़ते वक़्त किसी भी तरह से विचलित न हो. हमारा उद्देश्य किसी भी तरह से धार्मिक आस्था को आहत करना नहीं है..

अपने धरम एवं संस्कृति से जुड़े ऐसे ही कुछ अनसुने किस्सों के लिए हमारे धरम पेज पर बने रहे..

Tag: Mahabharata Barbarik Story in Hindi