लघु उधमियों के लिए NABARD लेकर आई है ये लोन स्कीम

Nabard Loan Scheme  : कभी सूखे की मार तो कभी बाढ़ के चपेट में बर्बाद होती फसल | ये इंडिया है बॉस यहाँ सवा अरब जनसँख्या की पेट भरने वाला किसान बड़ी मुश्किल से अपना पेट भर पाता है | यही वजह है की आज समय की मांग को समझते हुए  सरकार किसान को वैकल्पिक एवं अन्य नॉन फार्मिंग एक्टिविटी (Non farming activity) करने के लिए विशेष रूप से प्रोत्साहित कर रही है | ऐसे में न सिर्फ ग्रामीण भारत के विकास में एक नयी जान फूंकी है साथ ही छोटे घरेलु गृह उद्योगों के पनपने के लिए भी अनुकूल परिस्थितियों ने जनम ले पाया है.

Nabard Loan Scheme for Small Business :

किसान एवं छोटे उधमियों को जहाँ इन वैकल्पिक आय स्रोतों से जोड़ने के लिए सरकार समय-समय पर ढेरों जागरूकता अभियान  चला रही है तो वही दुसरे और आज RBI के Guidelines एवं National Bank for Agriculture and Rural Development (NABARD) के सहयोग से आप भी छोटे-मोटे सकल घरेलु उत्पाद (SMSE) स्थापित करने के लिए पूंजी आराम से पा सकते हैं | यदि आप भी भविष्य में बिज़नस कर लाखो कमाना चाहते हैं या फिर फार्मिंग(Farming) एवं अलाइड सर्विसेज (Allied services) जैसे की मशरूम फार्मिंग (Mushroom Farming), डेरी इंडस्ट्रीज(Dairy industries) इत्यादि करने के इच्छुक है तो आज ही अपने नजदीकी नाबार्ड केंद्र(NABARD Centre) से संपर्क करें |

क्या है नाबार्ड (What is NABARD):

इतने बड़े जनसँख्या को खाद्य संकट (Food-Security) से बचा देश के आर्थिक विकास में एक किसान के सहयोग को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता | ऐसे में भारत के विकास में किसानो एवं लघु उधमियों की मदद करने हेतु वर्ष 1982 में RBI द्वारा नाबार्ड(National Bank for agricultural and Rural Development)  की स्थापना की गयी थी | ग्रामीण भारत के लोगो को आर्थिक संपन्न बना उन्हें देश के मुख्यधारा से जोड़ने हेतु प्रयासरत नाबार्ड आज ग्रामीण भारत के विकास की इंजन का काम कर रही है |

नाबार्ड का रोल (Role Of NABARD):

आज यदि आप कोई नया व्यवसाय स्थापित करना चाहते हैं तो सबदे बड़ी दिक्कत होती है पूंजी की | व्यापार में पूंजी के कमी के वजह से ही आज लाखो उधमी अपने सपनो को रंग नहीं दे पा रहे हैं,  मगर अब चिंता की कोई बात नहीं नाबार्ड आपके फाइनेंसियल दिक्कतों को न सिर्फ दूर करेगा वरण ये आपके कौशल विकास (Skill Development) में सहयोग कर जीत के प्रति आपको काफी हद तक तैयार भी करेगी | नाबार्ड के विस्तृत कार्यप्रणाली (Working system) को मुख्य्यत तीन भागो में बांटा जा सकता है.

(i) लघु उद्योग, गृह उधोग अथवा कृषि सम्बंधित यदि कोई व्यवसाय स्थापित करना चाहते हैं एवं पूंजी की कमी से जूझ रहे है तो नाबार्ड आपकी काफी मदद कर सकता है | ग्रामीण भारत को विकास के पहिये से जोड़ आपके आर्थिक सुधार हेतु नाबार्ड प्रतिबद्ध है |

(ii) अधिकृत बैंकिंग सिस्टम द्वारा SMSE के विकास में दी जाने वाली आर्थिक मदद एवं RBI के विभिन्न Guidelines की मोनिटरिंग (Monitoring) एवं कस्टमर क्रेडिट स्कीम (Customer credit schemes) के restructuring में नाबार्ड एक महत्वपूर्ण रोल प्ले करता है |

(iii) रूरल इकॉनमी (Rural Economy) के विकास हेतु स्थापित छोटे-मोटे गृह उद्योगों की देखरेख के साथ-साथ नाबार्ड समय-समय पर रूरल अपलिफ्टमेंट प्रोग्राम (Rural Upliftment Programme) के तहत जुडी संस्थाओं को आवश्यक रिसोर्स (Resource) एवं ट्रेनिंग (Training) मुहैया कराती है जो की स्किल डेवलपमेंट(Skill Development) का एक अहम् भाग है |

नाबार्ड से लोन कैसे ले (How to Take Nabard Loan Scheme):

National Rural Livelihood mission (NRLM) के तहत आज नाबार्ड छोटे-मोटे SHG (Self Help Group) एवं उधमियों को अपने विकास हेतु लोन मुहैया कराती है | यदि आपने भी अपने आय के स्रोत को बढाने के लिए कोई नॉन फार्मिंग अथवा फार्मिंग अलाइड सर्विसेज न (Poultry farm) कर अपना जीविका कमाना चाहते हैं तो आज ही अपने नजदीकी नाबार्ड केंद्र से संपर्क करे |

नाबार्ड आज अपने विस्तृत लोन स्कीम एवं कौसल विकास के लिए जाना पहचाना नाम है | नाबार्ड द्वारा मुहैया करायी जाने वाली आर्थिक मदद आज मूलत 5 तरह से दी जाती है.

(i) Composite loan scheme (CLS): इस स्कीम के तहत स्माल/ माइक्रो इंटरप्राइजेज (SMSE) को ब्लाक अथवा working capital के जरूरतों को पूरा करने हेतु 10 lakh / unit  तक की आर्थिक मदद की जाती है |

(ii) Integrated loan scheme(ILS): इस स्कीम के तहत किसी लघु उद्योग में एक चक्र(ONE CYCLE) तक लगने वाले ब्लाक अथवा working capital के लिए 15 लाख रूपए तक देने का प्रावधान है |

(iii) Self employment scheme for ex-servicemen (SEMFEX): नाबार्ड द्वारा 15 January 1988 को Ex-servicemen द्वारा फार्मिंग एवं अन्य अलाइड सर्विसेज को अपना एक बेहतर जीविका एवं Dignified लाइफ चुन सकने हेतु ही इस स्कीम की शुरुवात की गयी थी | मकसद एक ही ग्रामीण भारत का उत्थान एवं लोगो को नॉन फार्मिंग एक्टिविटीज (Non-farming activities) के तरफ जागरूक एवं आकर्षित करना | इस स्कीम के तहत आप विभिन्न तरह के व्यवासय के लिए विभिन्न लोन स्कीम(Schemes) का फायदा उठा सकते हैं |

(iv) Soft loan assistance for margin money (SLAMM): एक लोन जो खासकर उन युवा टैलेंट के लिए है जो उधमी तो बनना चाहते है परन्तु इन्वेस्टमेंट (Investment) के अभाव में उनका प्रोजेक्ट अधुरा रह जाता है | इसमे फार्मिंग एवं अन्य नॉन फार्मिंग अलाइड सर्विसेज के प्रति इन टैलेंट को आकर्षित करने के लिए ये स्पेशल लोन स्कीम बनाये गए हैं |

(v) Small road and water transport operators ( SRWTO): यदि आप भी अपने व्यापार के विस्तार हेतु गाड़ी लेने की सोच रहे हैं लेकिन पूंजी का अभाव आपको परेसान कर रही है तो आज ही निकटवर्ती नाबार्ड केंद्र से मिले |  नाबार्ड SRTWO स्कीम के तहत अब आप पैसेंजर वेहिकल(Passenger vehicle)  अथवा वाटर ट्रांसपोर्ट वेहिकल(Water transport vehicle) खरीदने हेतु सरकार से लोन ले सकते हैं |

इसे भी पढ़ें : बकरी के दूध के इन गुणों से आप अब तक थे अंजान

कहाँ से ले लोन (Nabard Loan Scheme):

नाबार्ड से मिलने वाले आर्थिक मदद लेने के लिए आप State Co-operative and Development Bank(SCARDB’s), State Co-operative Bank(SCB’s), Regional Rural Bank(RRB’s), Commercial Banks(CB’s) अथवा RBI अधिकृत किसी भी वित्तीय संसथान(Financial institution) से संपर्क कर सकते है. अपने क्षेत्र के नाबार्ड केंद्र के बारे में  विस्तृत जानकारी Nabard Loan Scheme के लिए नाबार्ड के मेन वेबसाइट से संपर्क करे.

इसे भी पढ़ें: जाने आधार कार्ड को मोबाइल नंबर से कैसे जोडें

नाबार्ड वेबसाइट: https://www.nabard.org

RANJITA MANDAL

Ranjita Mandal is a lawyer in Siliguri Court.