शर्मनाक: हम भारतीय आखिर कब सुधरेंगे

शोहरत न अता करना मौला, दौलत न अता करना मौला| बस इतना अता करना चाहे, जन्नत न अता करना मौला|

समैय वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो..होठो पे गंगा हो हाथों में तिरंगा हो|

डॉ. कुमार विस्वास जी की ये पंक्तियाँ सुन अपने आप मन में देशभक्ति की भावना बड़ी प्रबल हो जाती हैं| और हो भी क्यूँ न ये इंडिया हैं बॉस, एक ऐसा देश जिसने अपने इतिहास में आज तक कभी किसी मुल्क पर चढ़ाई नहीं की| हम शांतिप्रिय लोग हैं जो लोगो के दिलों में राज़ करने पर यकीन करते हैं मगर वो भी प्यार से| हमारी संस्कृति, हमारी भाषा, बेमिशाल कला एवं कालजयी कलाकृतियों के वजह से आज हमने विश्व पटल पर एक अलग छाप छोरी हैं और यही वजह हैं कि हर साल लाखों शैलानी इस देश की भक्ति एवं संस्कृति का लुफ्त उठाने भारत आते हैं|

उनमे से कुछ तो अपने साथ काफी मीठी यादे ले जाते हैं पर पर्यटकों का एक बड़ा हिस्सा हमें भारत एवं यहाँ के लोगों के चरित्र का एक अलग ही रूप दिखा जाते हैं| मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ| मौका था Richele ( एक जर्मन लड़की) से मेरी मुलाकात की और जगह थी दुनिया के 7 आश्चर्यो में से एक ताजमहल| हम दोनों एक दुसरे के साथ अपने-अपने देश के संस्कृति एवं वहां के लोगों के बारे में बाते कर रहे थे| मुझे अपने देश के बारे में काफी कुछ अच्छा सुनने को मिला| जहाँ कुछ बाते मुझे काफी अच्छी लगी वही Richele ने मुझे भारत के बारे में कुछ ऐसी बाते भी बताई जिसे सुन मेरा सर शर्म से निचे झुक गया| Richele एक महीने के भारत दौरे पर थी एवं इस दौरान उन्होंने भारत के कई टूरिस्ट स्थलों का भी दौरा किया| स्वयं उनके शब्दों में

यूँ तो भारत में मेरा अनुभव काफी अच्छा रहा, यहाँ के लोगों के दिलों में बहुत प्यार हैं| हर मोड़ पर वे साथ देने को तैयार रहते हैं मगर ऐसी तीन बाते हैं जो मुझे भारत के बारे में काफी बुरी लगी”|

(1) ऐतिहासिक स्थलों के दीवार पर पान-गुठका के निशान: नशा कौन नहीं करता..? हर किसी को किसी न किसी चीज का नशा होता हैं| मगर भारत में लोग पान-गुठका का नशा ज्यादा करते हैं| थूकते वक़्त उन्हें अपने आसपास का थोडा भी ध्यान नहीं रहता| जरा सोचिये जिन ऐतहासिक स्थलों को देखने के लिए हम टूरिस्ट दूर-दूर से आते हैं वहां यदि हमे पान मसाला एवं थूक के निशान मिले तो हम भारत एवं वहां के लोगों के बारे में क्या सोचेंगे..?

spitting on national heritage
कम से कम यहाँ तो मत थूकों|
इसे भी पढ़े: रेल मंत्री सुरेश प्रभु जी के नाम खुला पत्र

(2) दीवार पर अपने प्रेम का इजहार: मेरे ख्याल से ये आदत एक ऐसी आदत हैं जो चुपके-चुपके ही सही मगर विदेशों में भारत का नाम बदनाम कर रही हैं| प्यार शायद दुनिया की सबसे खुबसूरत फीलिंग्स में से एक हैं| एक प्रेमी युगल दुनिया के सामने अपने प्रेम का इजहार करने के लिए कुछ भी कर गुजरने से परहेज नहीं करती| मगर जरा ठहरिये..ऐतिहासिक स्थलों पर ” Pushpa I Love You” लिख कर क्या सच में आपका प्यार अमर हो जायेगा..? नहीं मगर हाँ इससे आप जाने अनजाने में अपने देश की इज्जत जरुर मिटटी में मिला देंगे|

गोलकुंडा फोर्ट पर अपने प्रेम का इजहार करते नाम
गोलकुंडा फोर्ट पर अपने प्रेम का इजहार करते नाम

(3) रूपए में अपना नाम लिखना: जब रघुराम राजन जी हमारे गवर्नर थे तब उन्होंने भारतीयों के नाम एक अपील जारी की थी कि कृपया कर आप नोटों पर अपने नाम न लिखे| मगर हम भारतीय कोई भी बात थोडा लेट से जो समझते हैं और यही वजह हैं कि हम बिना कुछ सोचे-समझे नोट पर अपना नाम लिख देते हैं या कुछ भी घस देते हैं इस बात से बेखबर कि हर साल हमारे इस आदत से करोड़ों रूपए के राजस्व का नुकसान होता हैं|

रूपए में अपना नाम लिखते भारतीय
रूपए में अपना नाम लिखते भारतीय

खैर लोगों से मिले प्यार एवं यहाँ के कला-संस्कृति को देख Richele ने जाते-जाते यह जरुर बोला की ” मैं लोगों से सुनती थी कि India Is Great” मगर यहाँ आकर मुझे ये एहसास हुआ कि मैंने जितना सोचा था भारत उससे भी ज्यादा खुबसूरत हैं और मैं बार-बार यहाँ जरुर आना चाहूंगी| आशा करती हूँ की अगली बार मुझे भारत थोड़ा और अच्छा लगे|

To All Indians

                                                                                                                                                    With Love From Germany

                                                                                                                                                                               Richele…!!!

फोटो साभार:  The Hindu

Leave a Reply