इन 10 तरीकों से सुधारे अपना बॉडी लैंग्वेज

आज के इस कर्म-प्रधान समाज में आपकी पहचान आपके काम एवं आपके स्वाभाव से ही होती है. चाहे आप किसी छोटे फर्म में कोई सेल्समेन का काम कर रहे हो या फिर किसी बड़ी मैनेजमेंट टीम का हिस्सा ही क्यों न हो |

आपकी सफलता में आपकी भाषा, कार्य शैली, ईमानदारी इत्यादि का विशेष योगदान रहता है | कार्य के दौरान अक्सर ऐसे मौके आते रहते हैं जब आपको अपने विचार लोगो के साथ साँझा करने की जरुरत होती है लेकिन ऐसा देखा जाता है कि प्रेजेंटेशन के दौरान की गयी तैयारियों में हम अपनी बॉडी लैंग्वेज को नदर-अंदाज़ कर देते हैं | ध्यान रहे आपकी बॉडी लैंग्वेज से ही आपके चरित्र की छवि झलकती है | प्रस्तुत आलेख के माध्यम से हमारी एक्सपर्ट टीम ने आपकी बॉडी लैंग्वेज को निखारने हेतु कुछ मत्वपूर्ण बिंदुओं पर प्रकाश डाला है जो निम्नलिखित हैं :-

  • यदि आप चाहते हैं कि ऑडियंस आपके प्रेजेंटेशन को पसंद करें तो प्रेजेंटेशन के दौरान अपने हाव-भाव को पॉजिटिव रखें तथा ध्यान रहे कि हँसता हुआ चेहरा सबको अच्छा लगता है |
  • हमेशा अपने ऑडियंस की आँखों में देखकर बात करें क्यों कि लोग ऐसे व्यक्तित्व को सुनना पसंद करते हैं जो उनके साथ आँख से आँख मिलाकर सीधा संवाद करने में यकीन करते हैं |
  • अपने संवाद को छोटा एवं सटीक बनाये रखें तथा बीच-बीच में अपने हाव-भाव में भी बदलाव लाते रहें |
  • प्रेजेंटेशन के दौरान दर्शकों की भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिए उनसे बीच-बीच में आप कोई सवाल पुछकर आप उनका ध्यान अपनी और आकर्षित कर सकते हैं |
  • दर्शको द्वारा पूछे गए कठिन प्रश्नों का जवाब हमें धीर, गंभीर और शांत रह कर देने का प्रयत्न करना चाहिए यदि सवाल का जवाब न ज्ञात हो तो मुस्कुरा कर टाल दें क्यों कि आपके द्वारा दिया गया जवाब ही आपको भीड़ से अलग करने का काम करेगा |
  • प्रेजेंटेशन के दौरान आत्मविश्वास को बनाये रखने के लिए बीच-बीच में थोडा ब्रेक लें एवं जितना हो सके लम्बी सांस लें, इससे आपका तनाव कम रहेगा |
  • अपने प्रेजेंटेशन के मुख्य बिन्दुओ को छोटे-छोटे भागों में बाटना न भूले एवं हर टॉपिक के ख़त्म होने के बाद कुछ समय के लिए दर्शको के साथ विनोदपूर्ण बात करें, इससे आपके दर्शक सीधा जुड़ाव फील करेंगे |
  • यदि आप प्रेजेंटेशन के लिए स्लाइड्स का इस्तेमाल कर रहे हैं तो स्लाइड्स एवं आपके स्टेटमेंट्स के बीच तालमेल बने रहना चाहिए | दर्शकों का ध्यान किसी विशेष बिंदु की ओर खीचने हेतु आप अपने हाथों एवं उंगलियों का इस्तेमाल कर सकते हैं |

इसे भी पढ़ें : सुझाव : प्रमोशन चाहिए तो बने क्रिएटिव

अंत में याद रखे कि आत्मविश्वास (Self Confidence) से बढ़कर कोई शक्ति नहीं होती | एक साधारण एवं उम्दा वक्ता के बीच का सबसे बड़ा अंतर उनके प्रेजेंटेशन देने के तरीके से होता है | भीड़ में बैठ कर सुनना एवं उसी भीड़ को संबोधित करना दोनों अलग बात है | अगर किसी ने आप पर भरोसा दिखाकर आपको इस लायक समझा है तो उनको धन्यवाद् करें एवं अपनी पुरी मेहनत व लगन से अपने कर्तव्य का पालन करें |

आशा करते हैं आपको हमारा ये प्रयास पसंद आयेगा | आप पॉजिटिव रहें, जितना हो सके उतना हँसने की कोशिश करे | आदर्श लोगो के जीवनियों को पढ़ें एवं हमेशा कुछ सीखने की कोशिश में लगे रहे यकिन मानिये जीत आप ही की होगी |

Actions Speak Louder Than Words.

फ़ोटो साभार : Message To Eagle

हिंदी खबर से जुड़े अन्य अपडेट लगातार पानेे के लिए हमें फेसबुक ,गूगल प्लस और ट्विटर पर फॉलो करे|

One thought on “इन 10 तरीकों से सुधारे अपना बॉडी लैंग्वेज

  • March 31, 2016 at 12:00 am
    Permalink

    सर नए लोगों के बीच बोलने में काफी जीझक होती है. उसको दूर करने के लिए क्या करना होगा ?

    Reply

Leave a Reply