करवाना चाहते है पियर्सिंग तो रखें इन बातों का ध्यान

Piercing tips in Hindi: मुझे आज भी बचपन के वो दिन याद आते हैं जब हमारे मोहल्ले में दिन के वक़्त एक बुजुर्ग चिल्लाते हुए आते थे “ नाक,कान छिदवालो” | उनकी आवाज़ सुनते ही हमारी कॉलोनी की सारी औरतें उनसे नाक,कान छिदवाने चली जाया करती थी | हालाँकि ये क्रिया काफी कष्टदायक होती है परन्तु अपनी संस्कृति एवं परंपरा से जुड़ी होने की वजह से औरतें एवं लड़कियों को इस कष्ट से होकर गुजरने में कोई दिक्कत नहीं होती |

मगर अब  वक़्त बदल गया है और आज पिएर्सिंग(Piercing) को स्टाइल स्टेटमेंट से जोड़कर देखा जाने लगा है | हालाँकि घाव को ठीक होने में कुछ हफ्ते जरुर लग जाते हैं परन्तु जब आपके फेवरेट बालियाँ या झुमके कुछ दिन के बाद आपके स्टाइल को उजागर करती है तो कहने ही क्या| इस आर्टिकल के माध्यम से हमने पिएर्सिंग के दौरान बड़ते जाने वाले सावधानियों (Piercing tips in Hindi) की एक लिस्ट बनायीं है जो आपका काम काफी हद तक आसान कर सकती है | पेश है एक रिपोर्ट.

Piercing tips in Hindi:

1. करें किटाणु राहित(sterilised) उपकरण का इस्तेमाल: पिएर्सिंग के उत्सुकता में हम अक्सर  इस मौलिक चीज को लगभग दरकिनार कर देते हैं | ध्यान रहे पियर्सिंग के वक़्त साफ सफाई का पूरा ध्यान दें किसी अनुभवी आर्टिस्ट से ही पियर्सिंग करवायें एवं पियर्सिंग से पहले ये अवश्य चेक करलें की सुई कीटाणु रहित सेनीटायसर से साफ़ की गयी हो |

2. रेगुलर घाव की करें सफाई: पियर्सिंग हो जाने के बाद घाव के सूखने तक लगातार घाव को किसी अच्छी कीटाणु नाशक क्रीम अथवा डेटोल से साफ़ करते रहें ताकि इन्फेक्शन फैलने न पाए | ध्यान दें घाव को नोचे नहीं इससे इन्फेक्शन फैलने का डर बना रहता है |

3. करें विटामिन का सेवन: आप माने या न माने मगर खान-पान में विटामिन(Vitamin) का सेवन आपके घाव को सुखाने में काफी मदद करेगा | जितना हो सके भोजन में विटामिन एवं जिंक का इस्तेमाल करें | इससे आपके घाव के सूखने की प्रकिया में तेज़ी आएगी |

इसे भी पढ़े:र में न रखें ये 5 चीजे होती है वास्तु दोष

4.गर्म तेल एवं हल्दी का करें इस्तेमाल: इस घरेलु नुश्खे का इस्तेमाल कर आप अपने घाव को आवश्यक गर्माहट प्रदान कर सकते हैं | गरम तेल एवं हल्दी एक प्राकृतिक उपचार है | आपके घाव से कीटाणु को मार इन्फेक्शन(Infection) से बचाने की | ये एंटी बैक्टीरियल होती है जिससे कि घाव को सूखने में मदद मिलती है |

5. लें दर्द निवारक सप्पलीमेंट्स(Supplements): कई बार दर्द यदि आवश्यकता से अधिक बढ़ जाती है तो ऐसे में आप किसी पेन किलर अथवा जिंक सप्प्लीमेंट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं इससे आपको दर्द से छुटकारा मिल पायेगा |

6. करें डॉक्टर से कंसल्ट: यदि किसी भी तरह से आपके दर्द में कोई रहत न मिले अथवा घाव और तेज़ी से बढ़ने लगे तो ऐसे हालत में शीघ्र डॉक्टर से कंसल्ट करें | ध्यान दें किसी भी तरह की लापरवाही भविष्य में आपको काफी नुकसान पहुँचा सकती है |

ब्यूटी और स्टाइल से जुड़े आलेख पढ़ने के लिए बने रहिये हमारे साथ ब्यूटी टिप्स

Leave a Reply