घर की खुशहाली के लिए 10 वास्तु टिप्स

Vastushastra Tips For Happy Life in Hindi : घर बनाते वक़्त काफी कुछ ध्यान दिया जाता है जैसे कि प्रवेश द्वार का मुँह किस दिशा में हो पूजा घर की बनावट कैसी हो..बेडरूम की साज-सज्जा का कैसे रखें ध्यान इत्यादि | ऐसे में आज समाज में वास्तु के प्रति रुझान में बेतहासा वृधि हुयी है |

आज हमारी एक बड़ी आबादी एवं बड़े-बड़े डेवेलपर्स घर बनाते वक़्त वास्तु शास्त्र पर खास ध्यान देते हैं | आइये डालते है नजर कुछ ऐसे ही वास्तु शास्त्र टिप्स के ऊपर जिसका अनुसरण कर आप भी एक खुशहाल जीवनशैली की नीव रख सकते हैं |

Vastushastra Tips For Happy Life in Hindi :

(1) ध्यान दें घर में प्रवेश द्वार बिलकुल साफ़ रहे | यदि आपका प्रवेश द्वार ही गन्दा रहेगा तब घर में लक्ष्मी के आगमन पर रोक जरुर लग सकती है |

(2) प्रवेश द्वार के आगे आप चाहे तो कुमकुम से शुभ-लाभ अथवा स्वस्तिक का चिन्ह बना सकते हैं | इससे पॉजिटिव एनर्जी का संचार होता है एवं बुरी आत्मा घर से दूर रहती है |

(3) घर में जहाँ-तहाँ देवी देवताओं की तस्वीरे न लगायें | बेडरूम में तस्वीर न लगायें यदि लगाते भी हैं तो ध्यान दें कि पैर के समीप किसी देवी देवता की फोटो न हो |

(4) अक्सर लोग शुभ विचारों के आगमन हेतु घर के प्रवेश द्वार पर बिना सोचे समझे ही गणेश जी की तस्वीर या प्रतिमा लगा देते हैं | ध्यान दें यदि आपके घर का मुँह उत्तर या दक्षिण मुखी है तभी गणेश जी की प्रतिमा लगायें अन्यथा नहीं |

(5) घर में फैली नकारात्मकता को दूर करने हेतु सदैव घर में झाड़ू-पोछा लगाया करें | नमक मिश्रित पानी से घर में पोछा लगाने से घर में पॉजिटिव एनर्जी का संचार होता है |

इसे भी पढ़े:साहित्य के पुरोधा मुंशी प्रेमचंद के जन्मदिन पर उनसे जुडी 5 बातें

(6) अध्यन कक्ष हमेशा पूर्व दिशा के ओर ही बनायें ताकि उसमे सम्पूर्ण मात्रा में सूरज की रौशनी पहुँच पाए | ध्यान दें कमरा प्रकाशवान एवं हवादार दोनों होना चाहिए तभी पढ़ने वालों पर इसका अनुकूल प्रभाव पड़ता है |

(7) घर के प्रवेश में तुलसी का पौधा अवस्य लगायें एवं नियमित रूप से उसकी पूजा भी करें | शाम के वक़्त दीप भी जलायें | रोज़ सुबह कुछ तुलसी के पत्ते खाने से कई रोगों से मुक्ति भी मिलती है |

(8) बेडरूम में बिस्तर पर सोते वक़्त ये जरुर ध्यान रखें कि आपका मुँह दक्षिण दिशा में हो | उत्तर दिशा में मुँह करके सोने से अनिंद्रा, पाचन, एसिडिटी इत्यादि जैसे विकार जन्म ले सकते हैं |

(9) रोज शाम को धुप-बत्ती एवं शंख बजाने की परंपरा रखें | शंख की ध्वनि से पॉजिटिव एनर्जी का संचार होता है साथ ही कपूर अथवा धुप से संध्या बत्ती देने पर हानिकारक विषाणुओं का नाश होता है |

(10) हो सके तो घर के बाहर या छत में पक्षियों के लिए एक छोटा सा बसेरा बनायें एवं रोज़ उसमें पक्षियों को भोजन करवाया करें  | इससे कुलदोष मिटता है एवं सफलता पाने में आसानी होती है |

Vastushastra Tips For Happy Life in Hindi Article End.

वास्तुशास्त्र से जुड़े ऐसे ही ढेर सारे रोचक जानकारियों के लिए हमारे एस्ट्रोलॉजी पेज पर बने रहे.

Leave a Reply