गणेश जी की आराधना कर करें अपने वास्तु शास्त्र दोष दूर

How To Get Rid of Vastu Dosh in Hindi : भारतीय उपमहाद्वीप आदिकाल से ही बेजोड़ स्थापत्य कला एवं वास्तु शास्त्र की वजह से कला के क्षेत्र में विश्व में अग्रणी बना हुआ है | आज के हमारे मॉडर्न शिल्पकारों के हाथों वास्तु शास्त्र और भी ज्यादा सुरक्षित हो गया है |

यही वजह है कि आज लोग घर बनाते वक़्त वास्तु शास्त्र का सहारा जरुर लेते हैं |परन्तु अमूमन ऐसा देखा जाता है कि आज भी एक बड़ी आबादी वास्तु शास्त्र के प्रति रूचि तो रखती है परन्तु सही मार्गदर्शन का अभाव उन्हें वास्तु लाभ से वंचित कर देता है |

ऐसे में वास्तु शास्त्र के दोष से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है | प्रस्तुत इस आर्टिकल के माध्यम से हमारे वास्तु शास्त्र एक्सपर्ट ने ऐसे ही कुछ उपायों के बारे में एक लिस्ट बनायी है जिसका अनुसरण कर आप काफी हद तक खुद के घर के वास्तु दोषों को हटा सकते हैं | पेश है एक रिपोर्ट…

How To Get Rid of Vastu Dosh in Hindi :

  1. भवन के जिस भाग में वास्तु दोष की संभावना हो उस भाग में घी मिश्रित सिन्दूर से स्वास्तिक का निशान बनाने से वास्तु दोषों से छुटकारा मिलता है |
  2.  वास्तु शास्त्र के दोष में आप गणेशजी की पूजा कर सकते है या फिर घर के मुख्य द्वार में गणेश जी की प्रतिमा लगा सकते हैं | ध्यान दें मुख्य द्वार में आपने जहाँ भी गणेश जी की प्रतिमा लगायी हो ठीक उसके दूसरी तरफ एक और गणेश जी की प्रतिमा को पीछे करके लगाकर रख दें | ऐसा करने से गृह दोष दूर होते हैं |

  3. ध्यान दें आप घर के किसी भी कोने में गणेश जी की प्रतिमा लगा सकते हैं परन्तु याद रहे कि किसी भी स्थिति में उनका मुह दक्षिण दिशा के ओर न हो | घर में सुख-समृधि एवं शांति बनाये रखने के लिए आप चाहे तो सफ़ेद गणेश जी की प्रतिमा का भी उपयोग कर सकते हैं |

  4. ध्यान दें गणेश जी को उनका वाहक अतार्थ मूषक काफी प्रिय होता है ऐसे में प्रतिमा लगाते वक़्त ध्यान दें कि प्रतिमा में गणेश जी के साथ मूषक एवं लड्डू भी साथ में होना चाहिए |

  5. कार्य स्थल पर आप चाहे तो खड़े हुए गणेश जी की तस्वीर लगा सकते हैं परन्तु ध्यान दें कि उनका पैर जमीं को टच करता हो | ऐसे में कार्य में स्थिरता आने की संभावना रहती है |

वास्तुशास्त्र से जुड़े ऐसे ही रोचक जानकारी हेतु हमारे एस्ट्रोलॉजी पेज पर बने रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Have Entered Wrong Credentials